Loading...

आंगनबाड़ी केन्द्रों की शिकायत के लिए वॉट्सएप नंबर जारी | WhatsApp number for complaints of Anganwadi centers

भोपाल। बच्चों और महिलाओं के पोषण के प्रति लोगों को जागरुक करने के लिए आंगनबाड़ी केन्द्रों के माध्यम से विशेष गतिविधियां आयोजित की जाती हैं। यदि आपको आंगनबाड़ियों पर पर्याप्त सुविधाएं नहीं मिले या वहां कोई कमी नजर आएं तो आप वॉट्सएप नंबर 8305101188 पर इसकी शिकायत भी कर सकते हैं। महिला बाल विकास विभाग के पीएस अनुपम राजन ने सोमवार को यह बात कही। वे होटल अशोका लेक व्यू में विभाग एवं यूनिसेफ द्वारा आयोजित पोषण कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे।

राज्यपाल श्री लालजी टंडन ने की कुपोषण उन्मूलन प्रयासों की समीक्षा

भोपाल। राज्यपाल श्री लालजी टंडन ने आज राजभवन में प्रमुख सचिव महिला-बाल विकास श्री अनुपम राजन के साथ प्रदेश में कुपोषण उन्मूलन के लिये किये जा रहे प्रयासों की समीक्षा की। राज्यपाल के सचिव श्री मनोहर दुबे भी मौजूद थे। राज्यपाल श्री टंडन ने कहा कि स्वस्थ और सशक्त भारत के निर्माण के लिये केन्द्र सरकार द्वारा योजनाएँ संचालित की गई हैं। योजनाओं के जमीनी क्रियान्वयन के साथ-साथ प्रभावी मानीटरिंग भी जरूरी है।

प्रमुख सचिव श्री राजन ने राज्यपाल को प्रदेश में राष्ट्रीय मिशन अंतर्गत संचालित गतिविधियों का ब्यौरा दिया। उन्होंने बताया कि शिक्षा, स्वास्थ्य, पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के समन्वय से सितंबर माह को पोषण आहार माह के रूप मे मनाया जा रहा है। इस दौरान जन-जागृति के विशेष कार्य किए जा रहे हैं। इसमें मीडिया का सक्रिय सहयोग लिया जा रहा है। मीडिया कार्यशाला का आयोजन किया गया है। पोषण आहार संबंधी गतिविधियों का कैलेण्डर बनाकर गतिविधियों की मानीटरिंग की जा रही है। उन्होंने बताया कि मध्यप्रदेश पोषण आहार गतिविधियों के संचालन में देश का अग्रणी राज्य है। राज्य को केन्द्र सरकार ने पोषण आहार की गतिविधियों के उत्कृष्ट क्रियान्वयन के लिये प्रथम पुरस्कार 3 करोड़ रूपये प्रदान कर सम्मानित किया है। उन्होंने बताया कि आंगनबाड़ी स्तर पर पोषण सभाओं का आयोजन किया जा रहा है। गर्भवती महिलाओं के हिमोग्लोबिन की जांच और बच्चों के स्वास्थ्य परीक्षण के कार्य भी किए गए हैं।

प्रमुख सचिव ने बताया कि आंगनवाड़ी केन्द्र स्तर पर प्रतिदिन कैलेंडर के अनुसार गतिविधियों संचालित की जा रही हैं। परियोजना स्तर पर भी प्रति सप्ताह 2 से 3 बार पोषण गतिविधियाँ और जिला स्तर पर प्रति सप्ताह स्वास्थ्य पोषण संबंधित थीम गतिविधियों का आयोजन किया जाता है। उन्होंने बताया कि गणेश चतुर्थी पर्व के दौरान हर घर पोषण आहार का त्यौहार मनाया गया। नवरात्रि के समय यह पुनः मनाया जाएगा। इसके अतिरिक्त, स्थानीय आवश्यकताओं के अनुरूप अन्य गतिविधियाँ संचालित की जा रही हैं।