Loading...

आज दिखेगा FULL HARVEST MOON, दुनिया रोमांचित, अमेरिका में डर

नई दिल्‍ली। आज यानी 13 सितंबर को 13 साल बाद ऐसा संयोग बन रहा है जब 'दुर्लभ पूर्ण चंद्रमा' दिखाई देखा। इसे फुल हार्वेस्‍ट मून (Full Harvest Moon) भी कहते हैं। अमूमन चंद्रमा सूर्यास्‍त होने के 50 मिनट बाद उगता है लेकिन शुक्रवार को सूर्य के अस्‍त होने के ठीक 5 मिनट बाद ही चंद्रमा पूर्व में दिखाई देने लगेगा। 

आज कितने बजे दिखाई देगा फुल हार्वेस्‍ट मून


'द वाशिंगटन पोस्‍ट' की रिपोर्ट के मुताबिक, वाशिंगटन में चंद्रमा शाम को 7:31 बजे दिखाई देगा। नासा के वैज्ञानिकों का कहना है कि लोग इसे देख सकते हैं लेकिन किवदंतियों में इसे 'भयावह' माना गया है। आइये बतातें है फुल हार्वेस्‍ट मून (Full Harvest Moon) के बारे में वह सब कुछ जिसे आप जरूर जानना चाहेंगे...

फुल हार्वेस्‍ट मून नाम किसने दिया

इस पूर्ण चंद्रमा को फुल हार्वेस्‍ट मून (Full Harvest Moon) नाम नेटिव अमेरिकियों ने दिया था। दरअसल, यह चंद्रमा साधारण चंद्र उदय की अपेक्षा जल्‍द चांदनी बिखेर देता है। चूंकि, बीते जमाने में यह चंद्रमा उनकी गर्मियों में उगाई जाने वाली फसलों की कटाई और मड़ाई में मददगाह होता था इसलिए इसे पश्चिम में फुल हार्वेस्‍ट मून नाम दिया गया। इसे कॉर्न मून (corn moon) के नाम से भी जानते हैं क्‍योंकि यह समय ऐसा होता है जब किसान अपने मक्‍के की फसल की कटाई करते हैं।

फुल हार्वेस्‍ट मून पृथ्वी से कितनी दूरी पर होता है

यह अन्‍य फुल मून की अपेक्षा काफी छोटा दिखाई देता है। ऐसा इसलिए क्‍योंकि यह अपनी कक्षा के दूरस्‍थ बिंदु पर मौजूद होगा। अमूमन माइक्रो मून (micromoon) सुपर मून (Super Moons) की तुलना में 14 फीसद छोटा और 30 फीसद कम चमकीला दिखाई देता है। ऐसा इसलिए क्‍योंकि यह धरती से 251,655 मील की दूरी पर होता है। लेकिन फुल हार्वेस्‍ट मून माइक्रो मून से भी दूर (816 मील) मौजूद होगा। यानी धरती से 252471 मील दूर। इससे उलट सुपर मून माइक्रो मून से 2,039 मील धरती के नजदीक होता है।

शरत चंद्रमा भी कहते हैं: अब 13 अगस्‍त 2049 को दिखेगा

सितंबर में दिखाई देने वाले इस 'दुर्लभ पूर्ण चंद्रमा' को शरत चंद्रमा भी कहते हैं। इससे पहले जनवरी 2006 में शुक्रवार को फुल मून (Full Moon) दिखाई दिया था। अब 13 साल बाद फिर मई 2033 में ऐसा संयोग बनेगा। हालांकि, फुल हार्वेस्‍ट मून (Full Harvest Moon) के बारे में अनुमान है कि दोबारा 13 अगस्‍त 2049 को यह दुर्लभ संयोग बनेगा।

अमेरिका में इसे भयावह माना जाता है, लोग कोई काम नहीं करते

उत्तरी कैरोलिना के एशविले में स्‍ट्रेस मैनेजमेंट सेंटर एवं फोबिया इंस्‍टीट्यूट (Stress Management Center and Phobia Institute) के अनुसार, संयुक्त राज्य अमेरिका में अनुमानित 17 से 21 मिलियन लोग इस दिन से डरते हैं। यह किवदंती इसे इतिहास में सबसे अधिक भयभीत दिन बनाती है। अमेरिकी लोगों में इस दिन को लेकर डर का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि कुछ लोग डर से आज के दिन व्यापार करने, फ्लाइट पर जाने जैसी सामान्य दिनचर्या से बचते हैं। अनुमान है कि दुनिया में आज के दिन 800 से 900 मिलियन डॉलर तक का व्यापार नहीं होता है। हालांकि, वैज्ञानिकों ने इसे महज खगोलीय घटना बताया है।