Loading...

गोविंदपुरा में COOK and COOL के सिक्यूरिटी गार्ड की हत्या | BHOPAL NEWS

भोपाल। गोविंदपुरा इंडस्ट्रियल एरिया में स्थित COOK and COOL फैक्टरी के अंदर घुसकर  अज्ञात लोगों ने चाकुओं से गोदकर सिक्यूरिटी गार्ड प्रताप सिंह लोधी की हत्या कर दी। उसके शरीर पर चाकू के आठ वार थे। फैक्ट्री VISHNU DATT SHARMA की है। जहां वारदात हुई वहां सीसीटीवी कैमरा भी परंतु कैमरे बंद कर दिए गए थे। 

अशोका गार्डन थाना प्रभारी उमेश यादव ने बताया की मृतक प्रताप सिंह लोधी, उम्र 50 वर्ष एक सिक्यूरिटी एजेंसी में गार्ड था वह गायत्री नगर अशोका गार्डन में रहता था। सोमवार की रात उसकी गोविंदपुरा इंडस्ट्रियल एरिया के एच सेक्टर स्थित कुक एंड कूल फैक्टरी में उसकी नाइट ड्यूटी थी। यहां उसका दूसरा ही दिन था। एक अन्य सिक्यूरिटी गार्ड के छुट्टी पर जाने के कारण प्रताप को अस्थायी तौर पर ड्यूटी पर लगाया गया था। फैक्टरी का यह शेड विष्णुदत्त गुप्ता का है। 

फैक्टरी से 35 हजार रूपये लूट कर ले गए हत्यारे 

मंगलवार की सुबह करीब पौने आठ बजे दिन ड्यूटी का गार्ड सांझा राम पहुंचा तो फैक्टरी का मुख्य द्वार करीब एक फीट खुला हुआ था। गेट के अंदर मैदान में प्रताप सिंह कीचड़ में पड़े थे। सांझा राम ने सिक्यूरिटी एजेंसी के सुपरवाइजर अशोक सिंह ठाकुर को सूचना दी। 

गोविंदपुरा औद्योगिक क्षेत्र स्थित मसाले की फैक्ट्री में तैनात सिक्योरिटी गार्ड की धारदार हथियार से गोदकर हत्या कर दी गई। हत्यारे ने गार्ड के पेट और पसली पर आठ से दस वार किए। पुलिस को इस वारदात के पीछे किसी करीबी के होने का संदेह है। फैक्ट्री के एक गोदाम के ताले टूटे मिले हैं और यहां दराज में रखे 37 हजार रुपए गायब हैं।

पुलिस की शुरुआती जांच के अनुसार मृतक के पेट और पसली में नुकीले और धारदार हथियार से आठ से दस वार किए गए। मृतक गार्ड के हाथ में फैक्ट्री के मेन गेट की चाबी मिली है। ये फैक्ट्री विष्णु दत्त गुप्ता की है। यहां दो से तीन गोदाम हैं। एक को सागर टिल्टवानी ने किराए से लिया है, जिसमें सेंधा और काले नमक की फैक्ट्री संचालित हो रही है।

हत्या के समय फैक्ट्री के सीसीटीवी कैमरे बंद थे 

टीआई उमेश यादव का कहना है कि घटनास्थल पर संघर्ष के कोई निशान नहीं मिले हैं, जिससे लगता है कि किसी परिचित ने घटना को अंजाम दिया है। जिस जगह प्रताप सिंह की लाश मिली है, ठीक उसके सामने सीसीटीवी कैमरा लगा है, लेकिन रात में कैमरे बंद कर दिए गए थे। गोदाम में भी सीसीटीवी कैमरे लगे हैं, लेकिन घटना के समय बंद थे।

पुलिस का कहना है कि चोरी की नीयत से वारदात को दिया अंजाम दिया गया है, साथ ही यह भी सम्भावना है की सिक्योरिटी गार्ड की हत्या के पीछे कोई करीबी है। गोदाम की दराज में रखे 37 हजार रुपए भी गायब हैं। बदमाश चोरी की नीयत से फैक्ट्री के अंदर दाखिल हुआ होगा। पुलिस ने शक के आधार पर दो-तीन लोगों को हिरासत में लिया है, तथा आगे की जाँच जारी है।