Loading...

NSUI नेता ने व्यापारी के यहां चिट्ठी भेजकर फिरौती मांगी, गिरफ्तार

छतरपुर। शहर के एक लोहा व्यापारी को हत्या करने की धमकी देते हुए एनएसयूआई का एक कार्यकर्ता 35 लाख रुपए की फिरौती की मांग कर रहा था। पुलिस ने बदमाश को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी के द्वारा चिट्‌ठी लिखकर पैसे न देने पर हत्या करने की धमकी दी गई थी। 

व्यापारी पियूष जैन के पिता सुकमाल जैन की अक्टूबर 2018 में हत्या कर दी गई थी। उनकी हत्या का जिक्र करते हुए बदमाश प्रशांत पाठक ने व्यापारी पियूष जैन के घर चिट्‌ठी भेजी। आरोपी द्वारा चिट्‌ठी गोदाम के एक कर्मचारी के पास भेजी गई थी। चिट्‌ठी में धमकाते हुए लिखा कि यदि फिरौती के मांगे गए 35 लाख रुपए उसे नहीं मिले तो वह पिता की तरह उसका भी वही हाल करेगा।

पियूष ने इसकी जानकारी अपने परिजनों और जैन समाज के लोगों को दी। इससे जैन समाज के लोगों ने एसपी से मिलकर मामले की जांच की मांग की। एसपी ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए तत्काल ही एएसपी जयराज कुबेर के निर्देशन और सीएसपी उमेश शुक्ला के नेतृत्व में एक टीम गठित की। 

विकलांग सपेरे के हाथ से भेजी गई थी चिट्‌ठी

पुलिस टीम ने व्यापारी पियूष जैन के गोदाम के सीसी टीवी फुटेज खंगाले जिसमें एक सपेरे को धमकी भरी चिट्ठी देते हुए पाया गया। वह दाहिने हांथ से विकलांग था। पुलिस ने उस सपेरे की तलाश की तो वह बरकौहां का महेश सपेरा निकला। पुलिस ने सपेरे से पूछताछ की तो उसने कहा कि एक व्यक्ति ने उसे यह चिठ्‌ठी पियूष जैन को देने को कहा था। बदले में उसे 100 रुपए दिए थे। 

रुपए लेकर ग्वालियर आने की दी थी हिदायत

चिट्‌ठी में लिखा था कि 23 अगस्त को शाम 5 बजे चौबे कॉलोनी के बाहर ज्ञानदीप स्टेशनरी पर दिखना, नहीं दिखे तो हम समझेंगे की तुझे पैसे नहीं देना। 24 अगस्त के दिन सुबह 5 बजे छतरपुर-ग्वालियर बस चलती है। उसमें 35 लाख रुपए लेकर बैठ जाना। ध्यान रखना कि काले रंग के बैग में 2-2 हजार रुपए के नोट होना चाहिए। यह बैग बस की रैक में रख देना। इसके बाद तुम झांसी में उतर जाना। अगर इसमें कुछ होशियारी की तो महंगी पड़ेगी। कुछ होशियारी की तो मौत का ऐसा खेल होगा कि सारा परिवार खाक हो जाएगा। 

आरोपी बाेला-कर्ज चुकाने रची साजिश 

पुलिस टीम ने सपेरे से मिली जानकारी व अन्य तथ्याें के आधारा पर चौबे कॉलोनी निवासी 28 वर्षीय प्रशांत पाठक पुत्र विजय कुमार पाठक को सोमवार को पकड़ कर पूछताछ की। तब आरोपी ने अपना जुर्म कबूल कर लिया। उसने बताया कि कर्ज चुकाने के लिए यह कदम उठाया था। पुलिस ने आरोपी से पूछताछ के लिए उसे रिमांड पर लेने के लिए न्यायालय में पेश कर दिया है।