Loading...

उलझ रहे हैं नरोत्तम मिश्रा, दोनों अय्यारों को जमानत नहीं मिली | MP NEWS

भोपाल। मध्य प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान का विकल्प नरोत्तम मिश्रा के चारों तरफ कमलनाथ की EOW ने मजबूत जाल बिछा दिया है। उनके दोनों अय्यार यानी निजी सहायक निर्मल अवस्थी और वीरेंद्र पांडे को इस बार भी जमानत नहीं मिली। कोर्ट ने दोनों को 5 नवम्बर तक जेल भेज दिया है। इधर खबर आ रही है कि निर्मल अवस्थी और वीरेंद्र पांडे के खिलाफ भी एक मामला दर्ज करने की तैयारी हो गई है। 

कारोबारी हरेश सोरठिया की याचिका खारिज

ई-टेंडर घोटाले के आरोपी और गुजरात की सोरठिया वेलजी रत्ना कंपनी के संचालक हरेश सोरठिया को जबलपुर हाईकोर्ट से भी राहत नहीं मिली। हरेश सोरठिया के खिलाफ EOW ने गैर जमानती वारंट जारी किया है। दरअसल हरीश सोरठिया ने अपने खिलाफ जारी गैर जमानती वारंट को जमानती वारंट में तब्दील करने और गिरफ्तारी पर रोक लगाने को लेकर एक आवेदन जबलपुर हाईकोर्ट में लगाया था। लेकिन इस मामले की सुनवाई के बाद कोर्ट ने आवेदन खारिज कर दिया। 

हरेश सोरठिया ने 3 करोड़ की रिश्वत दी थी 

ई-टेंडर घोटाले की जांच में EOW को पता लगा कि गुजरात की इस कंपनी ने टेंडरों में टेंपरिंग करने के लिए मनीष खरे के खातों में करीब 3 करोड़ से भी ज्यादा रुपए ट्रांसफर किए थे। इसके बाद EOW ने हरेश सोरठिया को कई बार नोटिस भेजा लेकिन वह EOW के सामने पेश नहीं हुए। 

नरोत्तम के निर्मल और वीरेंद्र की रिमांड भी हो सकती है

वहीं पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा के दोनों निजी सहायक वीरेंद्र पांडे और निर्मल अवस्थी की न्यायिक हिरासत कोर्ट ने बढ़ा दी है। अब दोनों को 5 नवंबर तक जेल में ही रहना होगा। इस बीच अगर EOW दोनों को पूछताछ के लिए रिमांड पर लेने का आवेदन कोर्ट में लगाती है तो दोनों को रिमांड पर भी भेजा जा सकता है। वहीं माना जा रहा है कि जल्द ही दोनों के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति का केस भी दर्ज किया जा सकता है।