Loading...

GWALIOR NEWS : मेला ग्राउंड में गैंगवार, पुलिस आई तो भाग गए

ग्वालियर। आपसी रंजिश के चलते व्यापार मेला ग्राउंड में शुक्रवार की सुबह गैंगवार हो गई। फायरिंग की सूचना मेला ग्राउंड में घूमने वाले लोगों ने पुलिस नियंत्रण कक्ष को दी। पुलिस सक्रिय हुई उससे पहले ही मेले के अंदर डेरा डालकर परिवार पालने वाले लोगों ने बदमाशों की घेराबंदी करते हुए पथराव कर दिया जिससे बदमाश जान बचाकर भागे।

अपने घर से ड्यूटी पर जा रहे आरक्षक ने भी साहस का परिचय दिखाया और लोगों की मदद से दो बदमाशों को मौके पर ही दबोच लिया। घटना की खबर मिलते ही पुलिस कप्तान नवनीत भसीन मौके पर पहुंच गए। शुक्रवार को शहर बंद को लेकर पुलिस हाईअलर्ट है, इस बीच सुबह गोला का मंदिर थाना क्षेत्र के मेला ग्राउंड महाराजा गेट के पास तीन बाइक पर 12 बदमाश सवार होकर गैंगवार करने पहुंचे। दोनों पक्षों में आमना-सामना होते ही फायरिंग भी हुई, जिससे मेला परिसर में तफरीह करने वालों में भगदड़ मच गई और वह अपनी जान बचाकर भागे और पुलिस नियंत्रण कक्ष को इसकी खबर दी। 

वायरलेस पर जैसे ही मेला ग्राउंड में फायरिंग की खबर लगी तो आरक्षक अभिलाख सिंह ने टेम्पो से उतरकर बाइक छोडक़र भाग रहे बदमाशों का पीछा किया। पुलिस को देखकर बदमाश मेला परिसर में भाग रहे थे तभी उसमें डेरा डालकर रहने वाले लोगों को मदद के लिए बुलाया। बदमाशों को पकडऩे के लिए 3 दर्जन से ज्यादा महिला और पुरुष लाठी और पत्थर लेकर बदमाशों के पीछे भागे। इस बीच गोला का मंदिर व मेला थाने का बल भी मौके पर पहुंच गया और दो बदमाशों को पकड़ लिया। 

पुलिस पकड़ में आए बदमाशों ने अपने नाम शिवम तोमर, कुंदन सिंह राजावत बताए। साथ ही बताया कि उनके साथ फायरिंग में राजा सिंह, आशीष शर्मा, अरोरा, सत्येन्द्र कंषाना, हेमराज गुर्जर और ले टी भदौरिया शामिल थे, जो पुलिस के आने से पहले ही भाग निकले। आरोपियों का पता चलते ही पुलिस ने उनके घरों पर दबिश देकर राजा सिंह और अशीष शर्मा को भी पकड़ लिया है। जबकि अन्य फरार बदमाशों की तलाश में पुलिस टीम जुटी हुई है। 

SP ने ASI को पुरस्कार देने की घोषणा की

वायरलैस पर जैसे ही यह खबर चली कि मेला ग्राउंड में सुबह-सुबह फायरिंग हो गई और बदमाशों की घेराबंदी आरक्षक व वहां टपरों में रहने वाले लोगों ने कर ली है। तो पुलिस कप्तान भी तुरंत ही घटना स्थल पर पहुंचे और आरक्षक की पीठ थपथपाते हुए घटना पर तत्परता दिखाने वाले एएसआई विनोद गोस्वामी को पुरस्कार देने की घोषणा की।

वहीं फायरिंग के बाद बदमाश बाइक छोडक़र फरार हो गए थे। मदद के लिए वहां टपरों में रहने वाले लोगों ने इन्हें पकड़ लिया और इसके बाद यह लोग थाने पर भी एकत्रित हो गए। महिलाएं हाथों में पत्थर लिए हुए थीं। पुलिस कप्तान ने इन लोगों के साहस की सराहना करते हुए सुरक्षा का भरोसा दिलाया। 

बताया गया है कि दो दिन पहले कटारे फार्म के पास शिवम तोमर का किसी बात को लेकर विवाद हो गया था और जान से मारने की धमकी दी गई थी। शिवम को सूचना मिली कि कटारे फार्म के पास जिन लोगों से विवाद हुआ था वह मेला ग्राउंड में आए हैं। शिवम अपने एक दर्जन साथियों के साथ बाइकों पर सवार होकर बदला लेने की नीयत से हथियार लेकर पहुंचा और जैसे ही शिवम ने फायरिंग की तो सामने से भी गोली चली। गोली चलते ही दहशत फैल गई।