Loading...

पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर नहीं रहे | BABULAL GAUR NO MORE

भोपाल। मप्र के पूर्व सीएम बाबूलाल गौर का लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। 89 साल के बाबूलाल गौर पिछले 15 दिन से भोपाल के निजी अस्पताल में भर्ती थे। रात में हालत बिगडी और सुबह अंतिम सांस ली। 

89 वर्षीय बाबूलाल गौर की मंगलवार को तबीयत ज्यादा बिगड़ गई थी। उनका ब्लड प्रेशर कम होने के साथ पल्स रेट भी गिर गया था। बाबूलाल गौर की किडनी पूरी तरह काम नहीं कर रही थी। वे पिछले 14 दिनों से वेंटिलेटर सपोर्ट पर थे।

बाबूलाल गौर के निधन पर बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने दुख जताया। राकेश सिंह ने कहा, 'यह कहते हुए अत्यंत दुःख हो रहा है कि हमारे मार्गदर्शक भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री श्री बाबूलाल जी गौर अब हमारे बीच नहीं रहे। उन्होंने प्रदेश में संगठन को मजबूत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। ईश्वर दिवंगत आत्मा को श्रीचरणों में स्थान प्रदान करे।

दिग्विजय सिंह ने कहा: बाबू लाल ग़ौर जी के देहांत से मुझे गहरा दुख हुआ। राजनीतिक जीवन में हम दो ध्रुवों पर रहे लेकिन व्यावहारिक रूप से वो मेरे दिल के बेहद क़रीब थे। जब भी मिले पूरी गर्मजोशी के साथ मिले। जो भी किया पूरी ईमानदारी से किया। ग़ौर साहब के जाने से मैंने एक राजनीतिक साथी खो दिया। श्रद्धांजलि !

7 अगस्त को पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर की अचानक तबियत बिगड़ गई थी। इसके बाद उन्हें भोपाल के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया. उनका इलाज जारी था। उन्हें शुरू में घबराहट महसूस हुई जिसके तुरंत बाद उन्हें एक निजी अस्पताल ले जाया गया। वहां उनका इलाज चल रहा था।

89 साल के बाबूलाल गौर के फेफड़ों में इन्फेक्शन हुआ था। अस्पताल में भर्ती कराए जाने के बाद से कई पार्टी नेता उनसे मिलने अस्पताल पहुंचे। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्वीट कर उनके बेहतर स्वास्थ्य की कामना की थी। उनके अलावा प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ बीजेपी नेता शिवराज सिंह चौहान ने भी ट्वीट करके बाबूलाल गौर के जल्दी ठीक होने की कामना की थी।

इससे पहले तबीयत खराब होने पर उन्हें गुरुग्राम स्थित मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जिसके बाद सेहत में सुधार आने पर वे भोपाल के लिए रवाना हो गए थे। अप्रैल, 2019 में उनकी तबीयत ज्यादा खराब हो गई थी, उनका ब्लड प्रेशर बढ़ गया था। इस दौरान उन्हें आईसीयू में भर्ती कराना पड़ा था. हालांकि, जल्द ही वे ठीक हो गए थे।

बाबूलाल गौर 23 अगस्त 2004 से 29 नवंबर 2005 तक मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे। गौर का जन्म उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ के नौगीर गांव में दो जून 1930 को हुआ था। वे साल 1946 से ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) से जुड़ गए थे। वे भारतीय मजदूर संघ के संस्थापक सदस्य भी रहे।