Loading...

महिला सिपाही भर्ती के लिए 12वीं की छात्राएं आवेदन करें | POLICE JOB FOR 12th GIRL STUDENTS

जबलपुर। यदि कोई लड़की 12वीं में अध्ययनरत है और वो पुलिस या अर्द्वसैनिक बल में भर्ती होकर नौकरी करना चाहती है तो उसे अभी आवेदन करना होगा। स्कूल शिक्षा विभाग ने सभी जिला शिक्षा अधिकारियों को आदेशित किया है कि वो इच्छुक छात्राओं के फार्म भरवाकर भेजें। 

जबलपुर के पत्रकार नीरज उपाध्याय की रिपोर्ट के अनुसार शिक्षा विभाग ने जिला शिक्षा अधिकारियों को निर्देश देते हुए 31 अगस्त तक पुलिस सेवा में जाने वाली इच्छुक छात्राओं के फार्म भरवाने के लिए कहा है। मालूम हो कि केन्द्र सरकार द्वारा अर्द्धसैनिक बलों में छात्राओं के लिए 30 प्रतिशत आरक्षण सिपाही पद पर सीधी भर्ती का प्रावधान है। जिसकी न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता 10वीं पास आयु 18 वर्ष होना चाहिए।

एक जिले में 50 बालिकाओं को मिलेगा प्रशिक्षण

स्कूल शिक्षा विभाग ने निर्णय लिया है कि बालिकाओं के सशक्तीकरण के उद्वदेश्य से ऐसी बालिकाएं जो अर्द्ध सैनिक बल एवं पुलिस में भर्ती होना चाहती है। उनके लिए प्रत्येक जिले के सरकारी स्कूलों में प्रशिक्षण दिया जाएगा। एक जिले में करीब 50 छात्राओं को नि:शुल्क गैर आवासीय प्रशिक्षण दिया जाएगा।

छात्रा की न्यूनतम आयु 17 वर्ष

स्कूल शिक्षा विभाग ने तय किया है कि 12वीं कक्षा में पढ़ने वाली छात्राओं को अर्द्धसैनिक बल का प्रशिक्षण दिया जाएगा, इसके लिए छात्रा की आयु 17 वर्ष से अधिक नहीं होना चाहिए। इसके साथ ही कक्षा 10वीं में 50 प्रतिशत अंक प्राप्त हुए हो। शासकीय स्कूल में अध्यनरत हो, छात्रा की ऊंचाई 153 सेमी से कम नहीं होना चाहिए।

जिलस्तर से होगी परीक्षा

प्रशिक्षण के लिए जिलास्तर पर परीक्षा आयोजित होगी। इसमें एनसीसी और जिला खेल से संबंधित अधिकारी इसमें सहयोग करेंगे। इस पूरी प्रक्रिया की समीक्षा कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक करेंगे। परीक्षा सितंबर के प्रथम पखवाड़े में होगी। दो प्रकार की परीक्षाएं होगी जिसमें शरीरिक क्षमता दौड़ आदि के साथ अन्य मापदंड में चयन होना आवश्यक होगा। उसके बाद 100 अंकों की लिखित परीक्षा होगी जिसमें सामान्य ज्ञान, हिन्दी, गणित और अंग्रेजी से संबंधित वस्तुनिष्ठ प्रश्न होंगे। परीक्षा के लिए जिला खेल अधिकारी को नोडल अधिकारी बनाया जाएगा।

5 माह तक होगा प्रशिक्षण

छात्राओं को 5 माह तक प्रशिक्षित ट्रेनर द्वारा प्रशिक्षण दिया जाएगा। सितंबर से शुरू होने वाला प्रशिक्षण जनवरी तक आयोजित होगा। बताया जा रहा है कि प्रशिक्षण दो घंटे का रोज होगा जिसमें छात्राओं की सुविधा अनुसार समय निर्धारित किया जाएगा।