Loading...

SALARY IN ADVANCE आपकी COMPANY मना करे तो BANK दे देगा

प्राइवेट सेक्टर के कर्मचारी इस शब्द को बहुत अच्छी तरह से जानते हैं क्योंकि उनके पास सरकारी कर्मचारियों की तरह कोई पीएफ फंड नहीं होता। COMPANY उतना ही वेतन देती है जितना महीने के खर्च के लिए जरूरी हो। थोड़ा बहुत बचता है तो तीज त्योहार और बीमारियों पर खर्च हो जाता है। ऐसे में अचानक कोई खर्चा आ जाए तो 'SALARY IN ADVANCE' ही एकमात्र सहारा होती है। कई कंपनियों में यह नियमानुसार आसानी से मिल जाती है तो कई कंपनियों में HR और HOD के सामने गिड़गिड़ाना पड़ता है परंतु अब आपको ऐसा करने की जरूरत नहीं है। यदि आपकी कंपनी में 'SALARY IN ADVANCE' का नियम नहीं है तो अपने बैंक से कहिए वो आपको एक महीने के वेतन के बराबर पैसे उधार दे देगा। जी हां, उधार यानी बिना ब्याज वाला लोन। 
  

PAY LATER SCHEME का फायदा उठाइए

ICICI Bank सहित कई बैंकों में यह फीचर मौजूद है। PayLater अकाउंट के जरिए बिना आप किसी ब्याज के लोन ले सकते हैं। ये पे लेटर अकाउंट एक डिजिटल क्रेडिट प्रोडक्ट है, जो एक क्रेडिट कार्ड की तरह ही काम करता है, जहां आप पहले खर्च करते हैं और बाद में इसका भुगतान करते हैं। इस सुविधा के तहत आपको बैंक से 30 दिन के लिए एक निश्चित राशि उधार में दी जाती है। जिसे आपको बाद में लौटाना होता है। बैंक इस PayLater सुविधा के तहत आपको 45 दिन के लिए इंटरेस्ट-फ्री लोन देता है।

कैसे मिलती है ये सुविधा

ICICI Bank की PayLater की सुविधा इंटरनेट बैंकिंग, iMobile और पॉकेट्स वॉलेट पर उपलब्ध है। इस सुविधा के तहत ली गई रकम से आप न तो क्रेडिट कार्ड के बिल का भुगतान कर सकते हैं और न ही फंड ट्रांसफर करने के लिए इस सुविधा का इस्तेमाल कर सकते हैं। केवल खरीददारी कर सकते हैं। फिर चाहे वो महीने का राशन हो, स्कूल फीस या फिर किसी रिश्तेदार की शादी में दिए जाने वाला उपहार। 

कितना पैसा मिल सकता है

आप आईसीआईसीआई बैंक के Paylater अकाउंट के तहत 5 हजार से लेकर 25 हजार तक की रकम ले सकते हैं। या आपका एक माह का वेतन। हालांकि आपको कितनी रकम मिलती है, यह इस पर निर्भर करेगा कि बैंक के हिसाब से आप कितनी रकम के लिए योग्य हैं. आपके क्रेडिट स्कोर पर निर्भर करता है।

लास्ट डेट तक उधारी नहीं चुकाई तो

Paylater सुविधा का लाभ उठाने के लिए वैसे तो किसी तरह का ब्याज नहीं देना होता है, लेकिन अगर आप डेडलाइन तक अपना बिल नहीं भरते, तो आपको बैंक द्वारा लेट पेमेंट चार्जेस देने होंगे। ये चार्ज आपको तब तक देना होगा जब तक आप ने अपना ड्यू क्ल‍ियर नहीं करते हैं।