Loading...

संबल योजना का नाम बदला, अब कार्ड भी बदले जाएंगे, जांच होगी | MP NEWS

भोपाल। मुख्यमंत्री जनकल्याण यानी संबल योजना को अब नया सवेरा नाम दे दिया गया है। चूंकि कुछ पुराने कार्ड पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह का फोटो है, इसलिए अब सभी पात्र हितग्राहियों को नए कार्ड फ्री में वितरित होंगे। इसके लिए उन्हें अपने नजदीक के किसी कियोस्क, सीएससी, जनमित्र या फिर लोक सेवा केंद्र पर जाना होगा। 

अब तक जो कार्ड प्रचलित हैं, उनसे न तो आधार नंबर लिंक हैं न संबंधित व्यक्ति का मोबाइल नंबर फीड है। इससे कुछ फर्जी कार्ड भी चलन में आ चुके हैं। वास्तविक पात्र असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों की पहचान के लिए ही अब सारे कार्ड नए सिरे से तैयार होंगे।

श्रम विभाग ने इसको लेकर पिछले सप्ताह आदेश जारी कर दिया है। इसके मुताबिक, जिनके पास पुराने कार्ड हैं, उन्हें किसी भी कियोस्क, सीएससी, लोकसेवा केंद्र या फिर जनमित्र पर पहुंचना होगा। ऐसे लोगों को अपने साथ आधार पर मोबाइल नंबर भी लेकर जाना होगा। पुराना कार्ड दिखाने पर नया लेमिनेटेड कार्ड उसी दिन तत्काल फ्री पात्र हितग्राही को दिया जाएगा। 

यह रहेगी जांच की नई व्यवस्था 

संबल कार्ड में दर्ज नाम, लिंग व उम्र संबंधी जानकारी यदि आधार से मिलान होगी तो पुराना कार्ड जमा कर नया कार्ड तत्काल मिलेगा। 
यदि जानकारी में भिन्नता है तो सक्षम अधिकारी निर्णय लेंगे कि कार्ड जारी होना है अथवा नहीं। कियोस्क संबंधित अधिकारी को प्रकरण भेजेंगे। 
यदि नाम की स्पेलिंग, एड्रेस में कुछ अंतर है तो कियोस्क संचालक खुद ही निर्णय लेगा। इसके बाद सही जानकारी समग्र पोर्टल पर भी सुधरेगी। 
रजिस्टर्ड परिवारों को यह मिलते हैं लाभ:संबल योजना में कई तरह के लाभ सरकार देती है। इसमें शिक्षा प्रोत्साहन, सरल बिजली, संस्थागत प्रसव व जांच, सामान्य मौत, दुर्घटना, स्थायी अपंगता, अंत्येष्टि आदि के लिए आर्थिक मदद भी मिलती है।