Loading...

JABALPUR NEWS | पांच साल चलेगी हमारी सरकार : मंत्री तरुण भनोट

जबलपुर। कुछ तो लोग कहेंगे... लोगों का काम है कहना, विपक्ष तो लगातार साजिशें कर रहा है, लेकिन हमें जनता ने चुना है। इसलिए मेरा दावा है कि हमारी सरकार पूरे विश्वास के साथ पांच साल चलेगी। इस दावे के साथ प्रदेश के वित्त मंत्री तरुण भनोट ने कमलनाथ सरकार की 6 माह की उपलब्धियों और भविष्य की कार्ययोजना की जानकारियां दी।

पत्रवार्ता में वित्त मंत्री भनोट ने शिवराज सरकार के कार्यकाल में हुए अधूरे काम और घोटालों को लेकर तीखे हमले भी किए। मुख्यमंत्री कमलनाथ के निर्देश पर दूसरे जिलों की तरह जबलपुर में सरकार के 6 माह के कार्यकाल से जुड़े मुद्दों पर मीडिया से रू-ब-रू हुए वित्त मंत्री ने शहर के विकास के लिए कई नई योजनाओं की भी जानकारियाँ दीं, जिसमें मेडिकल यूनिवर्सिटी, विजय नगर में महिला कॉलेज, पेंटीनाका से रामपुर के बीच बनने वाले नए फलाईओवर, आईटी पार्क में नई सड़क निर्माण, बेरोजगारों के लिए नए रोजगारों की प्लानिंग समेत कई महत्वपूर्ण बातों पर विस्तृत जानकारी दी गई। भनोट के साथ उत्तर-मध्य विधानसभा क्षेत्र के विधायक विनय सक्सेना समेत अन्य कांग्रेस नेता मौजूद रहे।

35 हजार करोड़ का कर्ज ले सकती है सरकार-

वित्त मंत्री के अनुसार पिछली सरकार ने 1 लाख 60 हजार करोड़ का कर्ज लेकर उसका सिर्फ दुरुपयोग किया, लेकिन हमारी सरकार अभी 35 हजार करोड़ का कर्ज ले सकती है। उन्होंने दावा किया कि जितना भी कर्ज लिया जाएगा, उसका जनता की सेवा में सदुपयोग होगा।

जबलपुर में गूंजेगी शेर की दहाड़

वित्त मंत्री भनोट ने डुमना नेचर पार्क को पन्ना टाइगर सफारी की तर्ज परविकसित करने का दावा करते हुए बताया कि डुमना नेचर पार्क में टाइगर सफारी के लिए जल्द ही डीपीआर तैयार होगी। भनोट के अनुसार सोमवार को रीवा और पन्ना से आए कई अधिकारियों के साथ डुमना नेचर पार्क में एक बैठक का आयोजन किया गया और इसे विकसित करने के लिए महत्वपूर्ण चर्चा की गई, जिससे जल्द ही जबलपुर में भी शेर की दहाड़ गूंजेगी और शहर के साथ देश भर के पर्यटक यहाँ भ्रमण के लिए आएंगे।

बीजेपी सरकार ने प्रपंच किया 

भनोट के अनुसार सीमित समय में सरकार ने काम किया है। हमें सिर्फ 3 माह का समय काम के लिए मिला, जिसमें 48 लाख किसान कर्जमाफी से जुड़े, जिनमें से 19,98,000 किसानों का कर्ज सरकार ने माफ किया। शिक्षा और उद्योग के क्षेत्र में बीजेपी सरकार ने प्रपंच करते हुए फर्जी एमओयू साइन किए थे, लेकिन हमने काम करने के कल्चर में बदलाव किया और कई महत्वपूर्ण कार्य किए। पिछली सरकार ने 280 करोड़ की मेडिकल यूनिवर्सिटी के लिए महज 28 करोड़ दिए थे, लेकिन कमलनाथ सरकार इस अधूरे काम को पूरा करेगी।