Loading...    
   


INDORE NEWS : मंत्री तुलसी सिलावट ने आधे स्कूल का लोकार्पण किया, दूसरा फीता बच्चों ने काट दिया

इंदौर। सांवेर विधानसभा क्षेत्र के तहत वार्ड 36 के निपानिया में विकास कार्यों के भूमिपूजन और लोकार्पण (Bhumi Pujan and Lokarpan) कार्यक्रम में स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट (TULSI SILAVAT) से एक गलती हो गई। उन्होंने सड़क का भूमिपूजन कर लिया लेकिन नई स्कूल की इमारत के आधे हिस्से का ही लोकार्पण किया। जब बच्चों ने देखा कि दूसरी मंजिल का फीता नहीं काटा गया है तो बच्चों ने खुद कैंची से रिबिन काटकर (Cutting the ribbon) स्कूल की पहली मंजिल का उद्घाटन कर दिया।

वाकया पीपल्या कुम्हार के सरकारी प्राथमिक स्कूल की नई इमारत के उद्घाटन का है। नगर निगम ने यह इमारत बनाई है। मंत्री ने जल्दबाजी में स्कूल इमारत के निचले हिस्से का उद्घाटन कर दिया और कार्यक्रम स्थल से रवाना हो गए। एक फीता ऊपरी हिस्से में भी लगा था जिसे मंत्री को काटकर पहली मंजिल का उद्घाटन करना था। बाद में पार्षद पति जीवन पंचोली ने बच्चों को इकट्ठा कर उनके हाथों से ही रिबिन कटवाई। इसके बाद बच्चों ने अपने स्कूल की नई इमारत देखने के लिए दौड़ लगा दी।

पहले मंत्री करते रहे महापौर का इंतजार : 

विकास कार्यों के लिए आयोजित कार्यक्रम में मंत्री काफी देर तक महापौर मालिनी गौड़ का इंतजार करते रहे लेकिन वे नहीं पहुंची। आखिरकार मंत्री ने अकेले ही भूमिपूजन और लोकार्पण करना शुरू कर दिया। पीपल्या कुम्हार कांकड़ की 15 फीट चौड़ी सड़क के भूमिपूजन के दौरान सिलावट ने नगर निगम के अधीक्षण यंत्री एनएस तोमर, जोनल अधिकारी वैभव देवलासे और ठेकेदार को माला पहनाई और उन्हें इशारों ही इशारों में समझा दिया कि मंत्री हार इसलिए पहना रहा है जिससे कल से सड़क का काम शुरू हो जाए। कार्यक्रम में मंत्री का स्वागत किया तो उन्होंने भाजपा नेताओं के साथ बड़ा हार पहना ताकि जनता को यह संदेश मिले कि मंत्री राजनीतिक श्रेय से ऊपर काम करते हैं। हालांकि बाद में पार्षद पति मंत्री पर श्रेय लेने का आरोप लगाने से नहीं चूके।

जो रोड 100 फीट बनना है, उसे 15 फीट की बना रहा निगम

सूत्रों ने बताया कि पीपल्याकुम्हार कांकड़ की जिस सड़क का मंत्री ने भूमिपूजन किया, वह नगर निगम अभी 15 फीट चौड़ी बना रहा है। कांकड़ की ही जमीन पर प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत फ्लैट बनाए जा रहे हैं। कांकड़ में रहने वालों को यहां फ्लैट दिए जाएंगे। कांकड़ के मकान-झोपड़ियां हटने के बाद सड़क को 100 फीट चौड़ा बनाना है। अब यह किसी को समझ नहीं आ रहा कि जिस सड़क को अगले कुछ महीनों में 100 फीट चौड़ा बनाना है, उसे मंत्री के दबाव में 15 फीट चौड़ा क्यों बनाया जा रहा है?


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here