Loading...

ग्वालियर में बनेगा मध्यप्रदेश का पहला पक्षी पार्क | GWALIOR NEWS

ग्वालियर। शहर के पास ही खुरैरी तालाब को अब राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय 120 प्रजातियों (National-International 120 species BIRDS) के पार्क के रूप में तैयार किया जाएगा इसके लिए तालाब का सीमांकन कर पूरी तैयारी कर ली गई है। संरक्षण देने के लिए 20 से अधिक प्रजातियों के घने-छायादार और पक्षियों को आकर्षित करने वाले पेड़ों के पौधे यहां लगाए जाएंगे। 1 लाख 45 हजार वर्गफीट में स्थित तालाब के चारों ओर 80 हजार वर्गफीट जमीन पर हरियाली का विकास करने के साथ ही ईको जोन के रूप में भी विकसित किया जाएगा। पार्क को तैयार करने के लिए SDM पुष्पा पुषाम (SDM Pushpa Pusham) और वन्य प्राणी विशेषज्ञ गौरव परिहार ने पहले जगह का भ्रमण कर परिस्थितियों को देखा था। निरीक्षण के बाद वन्य प्राणी विशेषज्ञ ने तालाब को पक्षी पार्क (Bird Park)के लिए उपयुक्त बताया है इसके बाद सीमांकन कराया गया और पार्क की तैयारी के लिए बनाया प्रजेंटेशन कलेक्टर अनुराग चौधरी ने देखकर स्वीकृति दे दी है।

इन पक्षियों की प्रजाति रहेंगी

लार्ज ईग्रेट, रैड वेटल्ड लेपविंग, ग्रीन बी ईटन, पीड मायना, स्कावेंजर वल्चर, पेरिया काइट, इंडियान रोलर, लिटिल ब्राउन डव, कोर्मेरेंट, आसी क्राउन फिंच लार्क, रोज रिंग पैराकीट, प्लम हैडेड पैरट, इंडियन रोबिन, ब्लैक विंग स्टिल्ट सहित 120 प्रजाति के पक्षियों को यहां आकर्षित किया जाएगा।

यहां बनेगा पार्क

सात नंबर चौराहे से 8.3 किलोमीटर दूरी पर सरकारी तालाब का उपयोग किया जाएगा। यहां पहले से ही कुछ विशेष प्रजातियों के पक्षी आते हैं लेकिन पेड़ न होने के कारण संख्या कम रहती है। तालाब की लंबाई-चौड़ाई 1 लाख 45 हजार वर्गफीट है। इसकी कुल जमीन के 60 प्रतिशत क्षेत्र में पानी है। तालाब के बीच में एक टापू बनाया जाएगा जहां पक्षी सुरक्षित प्रजनन कर सकेंगे। तालाब में मछली और कछुए की कुछ प्रजातिया पहले से ही संरक्षित की जा चुकी है। बर्ड पार्क के लिए तैयार होने वाले तालाब के चारों ओर घने छायादार पेड़ों के पौधे लगाए जाएंगे।