Loading...

शिवम मिश्रा मामले में शिवराज सिंह धरने पर बैठे, CBI जांच नहीं तो उग्र आंदोलन | BHOPAL NEWS

भोपाल। मंगलवार की रात बैरागढ़ थाने में पुलिस हिरासत में युवक की मौत के बाद पूर्व सीएम शिवराज सिंह शुक्रवार को भारत माता चौराहे पर धरने पर बैठ गए। उनके साथ पीड़ित परिवार भी है। सीबीआई जांच की मांग के साथ शिवराज ने मुख्यमंत्री कमलनाथ को चेताया कि अगर एक हफ्ते में पीड़ित परिवार की सभी मांग नहीं मानी गईं तो जनता उग्र आंदोलन करेगी।

शिवराज ने कहा, "भोपाल में पुलिस बर्बरता के शिकार स्व. शिवम मिश्रा के परिवार को न्याय दिलाने के लिए परिवार और नागरिकों के साथ धरना दिया। पीड़ित दिव्यांग मां-बाप की हालत देखकर आत्मा फट जाती है, कलेजा बैठ जाता है। हम सब इस घोर अन्याय के खिलाफ न्याय मिलने तक लड़ेंगे।"

इसके पहले गुरुवार को शिवराज और कैबिनेट मंत्री पीसी शर्मा ने मृतक के परिजनों से मुलाकत की। इस दौरान शिवराज सिंह ने शिवम की बहन को सरकारी नौकरी देने की मांग की थी। शिवराज ने कहा था कि कमलनाथ में जरा भी इंसानियत है तो सीबीआई जांच कराएं। 

वायरल वीडियो में परिजन खुद ही निकाल रहे हैं अंगूठी 

इधर, एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें मृतक शिवम के परिजन खुद ही उसकी अंगूठी और अन्य सामान निकालते हुए दिख रहे हैं। इसमें परिजन ये भी कहते हुए दिख रहे हैं कि निकाल लो कुछ नहीं होता है। जबकि परिजनों ने पुलिस पर आरोप लगाया था कि उन्होंने शिवम की चेन और अंगूठियां लूट ली हैं।

जांच प्रभावित करने के लिए पिलाई शराब

मृतक शिवम के पिता साइबर सेल में तैनात हैं। उनके बेटे की बैरागढ़ थाने में हुई मौत, राजधानी पुलिस के काम-काज के तरीके पर सवाल खड़े कर दिए हैं। शिवम के पिता ने आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस वालों ने उनके इकलौते बेटे की पीट-पीटकर हत्या कर दी। बाद में जांच को दूसरी ओर घुमाने के लिए उसके मुंह में शराब डाली गई।

ये है मामला
घटना मंगलवार देर रात ढाई बजे की है। शिवम मिश्रा और गोविंद शर्मा नाम के इन युवकों की गाड़ी बीआरटीएस कॉरिडोर की रेलिंग से टकरा गई थी। आरोप है कि बैरागढ़ पुलिस बीआरटीएस कॉरिडोर से गाड़ी निकालने के जुर्म में दोनों युवकों को उसी वक्त पकड़कर थाने ले गयी और उनकी वहां जमकर पिटाई की।