MPPSC PASS सहायक प्राध्यापक: मंत्री पटवारी पर छापामारी करने 9 जून को आ रहे हैं | MP NEWS

भोपाल। उम्मीद थी कि मंत्री जीतू पटवारी इस मामले को समय रहते संभाल लेंगे परंतु ऐसा नहीं हुआ। 2018 में मप्र लोक सेवा आयोग (एमपीपीएससी) से चयनित 2536 सहायक प्राध्यापकों की तैयारियां अब अंतिम चरण में आ गईं हैं। वो 9 जून को भोपाल में एकजुट होने वाले हैं। रणानीति क्या है और यहां आकर क्या कुछ करेंगे यह तो नहीं पता लेकिन इतना जरूर पता है कि उनका टारगेट उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी हैं। 

बता दें कि पिछले दिनों मप्र पीएससी चयनित सहायक प्राध्यापक संघ ने प्रेस कांफ्रेंस आयोजित कर इच्छामृत्यु की इच्छा जताई थी। साथ ही कहा कि वे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखकर इच्छामृत्यु की मांग करेंगे। इसके अलावा उन्होंने मप्र शासन को अल्टीमेटम देते हुए 9 जून को राजधानी में उग्र आंदोलन करने की चेतावनी दी। उन्होंने बताया कि नियुक्ति को लेकर उन्हें उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी द्वारा लगातार आश्वासन मिला लेकिन छह माह बाद भी उन्हें नियुक्ति नहीं मिल सकी। 

उग्र आंदोलन में क्या करेंगे सहायक प्राध्यापक

MPPSC PASS सहायक प्राध्यापक अब खास तरह की रणनीति बना हरे हैं। वो मजदूर या किसान नहीं हैं जो भीड़ में जमा होकर मुर्दाबाद के नारे लगाएंगे, पुलिस लाठीचार्ज करेगी और प्रदर्शनकारी बसें जलाएंगे। ये सभी उच्च शिक्षित बेरोजगार हैं। अपने प्रदर्शन के साथ कानूनी सुरक्षा के बंदोबस्त कर रहे हैं। हर घटना की सैंकड़ों कैमरों से रिकॉर्डिंग होगी इसलिए पुलिस भी आम प्रदर्शनकारियों की तरह लट्ठ नहीं चला पाएगी। सवाल यह है कि इनका प्रदर्शन कैसा होगा। इनकी रणनीति क्या है। ये लोग ऐसा क्या करेंगे जो एक ही झटके में यह मामला सरकार के लिए सिरदर्द बन जाएगा। 

बस नियुक्ति शेष रह गई है

ज्ञात हो कि एमपीपीएससी ने साढ़े तीन हजार सहायक प्राध्यापकों की नियुक्ति करने के लिए मई-जून 2018 में परीक्षा ली थी। इसमें से 2536 सहायक प्राध्यापकों का चयन हो गया है। यहां तक कि उनका सत्यापन तक हो चुका है, लेकिन शासन उनकी नियुक्ति नहीं कर सका है। इससे वे परेशान हो रहे हैं। इसकी वजह से कई लोगों पर रोजी-रोटी का संकट आ गया है।