Loading...

भाजपा: प्रज्ञा ठाकुर और नेताओं के बीच सबकुछ सौहार्द पूर्ण नहीं | MP NEWS

भोपाल। लोकसभा चुनाव में एतिहासिक जीत के साथ ही कुछ नए समीकरण बनने लगे। सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर और भोपाल के प्रतिष्ठित भाजपा नेताओं के बीच सबकुछ सौहार्दपूर्ण नहीं है। गुरूवार को प्रदेश कार्यालय में कार्यकर्ता प्रज्ञा का इंतजार करते रहे परंतु वो नहीं आईं, शुक्रवार को प्रज्ञा सिंह आईं तो नेता नहीं आए। प्रज्ञा ठाकुर ने आभार जताया तो नेताओं का नाम नहीं लिया। बोली भोपाल में नई हूं, इसलिए नेताओं के नाम याद नहीं। 

चुनाव जीतकर सीधे घर चलीं गईं, कार्यालय में कार्यकर्ता इंतजार करते रहे

प्रज्ञा ठाकुर का दो दिन में जश्न की ये दूसरी तस्वीर थी। रिजल्ट आने के बाद गुरुवार को बीजेपी दफ्तर में भव्य जश्न मनाया गया। पार्टी के दिग्गज नेता वहां मौजूद थे लेकिन प्रज्ञा ठाकुर उसमें नहीं शामिल हुईं। वो स्ट्रांग रूम से सीधे अपने घर चली गयीं। नेता घंटों इंतजार करते रह गए और फिर लौट गए। 

शुक्रवार को प्रज्ञा ठाकुर कार्यालय आईं, लेकिन दिग्गज नेता नहीं आए

आज जीत के दूसरे सीन दूसरा था। साध्वी जब भाजपा दफ्तर में खुशियां मनाने पहुंचीं तो कोई नेता उसमें शामिल नहीं हुआ। फूलमाला से सजा बीजेपी कार्यालय और ढ़ोल नगाड़ो की आवाज़ के साथ पटाखों की रौनक के बीच कार्यकर्ताओं का उत्साह देखते बन रहा था। साध्वी की जीत को आज बीजेपी कार्यालय में धूमधाम से मनाया गया।

शिवराज, गोपाल और उमाशंकर भी नहीं आए

पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान और नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव भी जश्न में शामिल होने वाले थे लेकिन दोनों नहीं आए। यहां तक कि पूर्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता ने भी समारोह से दूरी बनाए रखी। बीजेपी ने सफाई देते हुए कहा कि सबकी अपनी व्यस्त्ताएं होती हैं इसलिए शामिल नहीं हो सके। 

प्रज्ञा ठाकुर को नेताओं के नाम तक याद नहीं

जीत के बाद प्रज्ञा ने भोपाल की जनता सहित कार्यकर्ताओं का धन्यवाद अदा किया, लेकिन नेताओं के नाम भूल गयीं। झेंप मिटाते हुए बोलीं कि मैं भोपाल के लिए नयी हूं इसलिए मुझे नाम याद नहीं हैं।