Advertisement

ICC WORLD CUP: इंडिया के 'गली ब्वॉयज' ने इंग्लैंड को धूल चटा दी, वर्ल्डकप जीता | SPORTS



भारत में अब केवल एक ही टीम नहीं है जो क्रिकेट में रोमांच पैदा करती है और लोकप्रियता के शिखर पर रहती है। टीम इंडिया के अलावा विमंस टीम और अब 'गली ब्वॉयज' भी आसमान की बुलंदियों की तरफ बढ़ रहे हैं। 'गली ब्वॉयज' ने आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप से पहले क्रिकेट के दूसरे फॉर्मेट का विश्व कप जीत लिया है। उन्होंने इंग्लैंड को 5 रनों से हराकर यह खिताब छीन लिया। 

स्ट्रीट चाइल्ड यूनाइटेड (यूके) द्वारा आयोजित पहले स्ट्रीट चाइल्ड क्रिकेट विश्व कप का फाइनल मुकाबला 7 मई को क्रिकेट का मक्का कहे जाने वाले लॉर्ड्स के मैदान में हुआ। इस वर्ल्ड कप में भारत की तरफ से दो टीमें शामिल हुई थीं, नॉर्थ इंडिया और साउथ इंडिया। नॉर्थ इंडिया में मुंबई के गली के बच्चे और साउथ इंडिया में चेन्नई के गली के बच्चों का चयन किया गया था। मंगलवार को कई प्ले-ऑफ मैच खेलने के बाद साउथ इंडिया की टीम का सामना इंग्लैंड के प्रतिष्ठित लॉर्ड्स स्टेडियम में इंग्लैंड की टीम के साथ हुआ।

इस मुकाबले में चेन्नई से वी.पुलराज की कप्तानी वाली साउथ इंडिया की टीम ने इंग्लैड की टीम को हरा दिया। भारतीय टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 47 रन बनाए, जवाब में इंग्लैंड की टीम 42 रनों पर ऑल आउट हो गई। स्ट्रीट चाइल्ड यूनाइटेड (यूके) ने इससे पहले फुटबॉल टूर्नामेंट और स्ट्रीट चाइल्ड गेम्स का आयोजन करता रहा है। ये सभी मैच सभी फुटबॉल विश्व कप और ओलंपिक खेलों के मेजबान शहर में आयोजित किए गए। स्ट्रीट चाइल्ड क्रिकेट विश्व कप के प्रारूप में 8 सदस्यीय टीमें शामिल हैं, जो 20 गेंदों के मैच में एक-दूसरे के खिलाफ खेलती हैं।

हर टीम में 8 खिलाड़ी होते हैं और इनमें समान संख्या में लड़के और लड़कियां शामिल हैं, जिनकी उम्र 14 से 17 के बीच है. इस विश्व कप में बांग्लादेश, इंग्लैंड, कांगो, मॉरीशस, नेपाल, वेस्ट इंडीज और तंजानिया की एक-एक टीम ने हिस्सा लिया, जबकि भारत की तरफ से दो टीमों- भारत उत्तर और भारत दक्षिण ने देश का प्रतिनिधित्व किया।

इस विश्व कप में टीम इंडिया नॉर्थ का प्रतिनिधित्व होप फाउंडेशन और सेव द चिल्ड्रन इंडिया के बच्चों द्वारा किया गया, जबकि करुणालय सोशल सर्विस सोसाइटी और मैजिक बस के बच्चों ने इंडिया साउथ का प्रतिनिधित्व किया।