Loading...

CM कमलनाथ PM नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण में नहीं जाएंगे | MP NEWS

भोपाल। सीएम कमलनाथ भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में दिल्ली नहीं जाएंगे। उन्होंने कहा है कि चुनाव के बाद वो प्रदेश के विकास के कामों में काफी व्यस्त हैं इसलिए कार्यक्रम में शामिल नहीं हो पाएंगे। बता दें कि कमलनाथ चुनाव बाद दिल्ली में हुई CWC की मीटिंग में भी नहीं गए थे। 

सोनिया और राहुल गांधी शामिल होंगे

यूपीए चेरयपर्सन सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) और राहुल गांधी (Rahul Gandhi) PM नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होंगे। सूत्रों ने यह जानकारी दी है। सोनिया और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का यह फैसला इसलिए अहम है क्योंकि चुनाव के बाद राहुल गांधी ने इस्तीफा दे दिया और पार्टी इन दिनों संकट में है। खबर यह भी है कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद भी कार्यक्रम में शामिल होंगे। 

कुल 6500 लोगों को बुलाया गया है

बता दें कि नरेंद्र मोदी के दूसरे कार्यकाल के लिए गुरुवार को होने वाले शपथ ग्रहण समारोह में सभी प्रदेशों के राज्यपालों, मुख्यमंत्रियों और प्रमुख विपक्षी दलों के नेताओं को आमंत्रित किया गया है। जिन विपक्षी नेताओं को आमंत्रित किया गया है उसमें कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, जद (एस) नेता और कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी और आप प्रमुख तथा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल शामिल हैं। सूत्रों ने कहा कि सभी मुख्यमंत्रियों, राज्यपालों, पूर्व प्रधानमंत्रियों और पूर्व राष्ट्रपतियों को कार्यक्रम के लिये न्योता भेजा गया है। साथ ही बताया कि समारोह के लिये सभी बड़े राष्ट्रीय और क्षेत्रीय दलों को न्योता भेजा जा रहा है। 

सारी दुनिया देश की राजनीतिक एकता देखेगी

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि बांग्लादेश के राष्ट्रपति अब्दुल हामिद, श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रिपाला सिरिसेना और नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली ने भी कार्यक्रम में हिस्सा लेने की पुष्टि की है. उन्होंने बताया कि म्यामां के राष्ट्रपति यू विन मिंट और भूटान के प्रधानमंत्री लोटे शेरिंग ने भी इस बात की पुष्टि कर दी है कि वे इस कार्यक्रम में शिरकत करेंगे. कुमार ने कहा कि थाईलैंड की ओर से विशेष दूत ग्रिसाडा बूनरैक समारोह में अपने देश का प्रतिनिधित्व करेंगे। भारत के अलावा बिम्सटेक में बांग्लादेश, म्यामां, श्रीलंका, थाईलैंड, नेपाल और भूटान शामिल हैं।