LOKSABHA CHUNAV HINDI NEWS यहां सर्च करें




मौसम की मार: मोदी का मुआवजा, कमलनाथ भड़के, POM ने यूटर्न लिया | NATIONAL NEWS

17 April 2019

नई दिल्ली। मंगलवार रात अचानक आई आंधी और बारिश ने 8 राज्यों के जनजीवन को प्रभावित किया। इनमें से मध्यप्रदेश, राजस्थान और गुजरात में सबसे ज्यादा नुक्सान हुआ। पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात के लिए तो मुआवजे की घोषणा कर दी परंतु मध्यप्रदेश और राजस्थान के लिए कुछ नहीं दिया। इस पर मप्र के सीएम कमलनाथ भड़क गए। अगले ही घंटे पीएम नरेंद्र मोदी ने मध्यप्रदेश व राजस्थान के लिए भी मुआवजा घोषित किया। 

प्रधानमंत्री ने ट्वीट करके संवेदनाएं प्रकट कीं

बुधवार सुबह जैसे ही प्राकृतिक आपदा की खबर आई तो हर किसी को चिंता हुई। कुछ ही देर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ट्वीट आया, उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल @narendramodi से नुकसान पर दुख जताया। पीएम ने लिखा कि गुजरात के कई हिस्सों में आंधी-बारिश और तूफान की वजह से हुए नुकसान से काफी आहत हूं। सभी के परिवार के साथ मेरी संवेदनाएं हैं।

पीएमओ ने मुआवजे का ऐलान कर दिया

प्रधानमंत्री के ट्वीट के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय के ट्विटर हैंडल @pmoindia से मुआवजे का ऐलान किया गया। यहां से ट्वीट किया गया कि गुजरात में जिन लोगों की आंधी-तूफान के कारण मौत हुई है, उन सभी के परिवारों को दो लाख का मुआवजा और जो लोग घायल हुए हैं उन सभी को 50 हजार रुपये की मदद की जाएगी।

कमलनाथ भड़के: इंसान मप्र में भी बसते हैं

प्रधानमंत्री के इस ट्वीट में सिर्फ गुजरात का जिक्र होने से मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ भड़क गए। उन्होंने तुरंत ट्वीट कर कहा कि नरेंद्र मोदी जी, आप सिर्फ गुजरात नहीं बल्कि पूरे देश के प्रधानमंत्री हैं। कमलनाथ ने लिखा कि एमपी में भी बेमौसम बारिश व तूफ़ान के कारण आकाशीय बिजली गिरने से 10 से अधिक लोगों की मौत हुई है, लेकिन आपकी संवेदनाएं सिर्फ गुजरात तक सीमित? भले यहां आपकी पार्टी की सरकार नहीं है लेकिन लोग यहां भी बसते हैं।

पीएमओ ने सभी राज्यों के लिए मुआवजा घोषित किया

इस विवाद के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय की तरफ से अन्य राज्यों के लिए भी मुआवजे का ऐलान किया गया। सुबह करीब 11 बजे PMO की तरफ से ट्वीट आया कि मध्य प्रदेश, राजस्थान, मणिपुर समेत कई राज्यों में आंधी-तूफान की वजह से हुए नुकसान पर दुख व्यक्त करता हूं। यहां भी मृतकों के परिवार को 2 लाख, घायलों को 50 हजार की मदद की जाएगी।



-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Suggested News

Loading...

Advertisement

Popular News This Week

 
-->