खंडवा श्मशान में बैठकर ठगी पीड़ितों को फोन पर धमकी दे रहा है तांत्रिक | MP NEWS

Advertisement

खंडवा श्मशान में बैठकर ठगी पीड़ितों को फोन पर धमकी दे रहा है तांत्रिक | MP NEWS

खंडवा। खुद को टेक्सटाइल कारोबारी बताने वाला कथित तांत्रिक संजय पालीवाल अब ठगी के शिकार लोगों को फोन पर धमकी दे रहा है। वो बता रहा है कि फिलहाल मैं श्मशान में हूं, तांत्रिक साधना कर रहा हूं। इसके बाद जितने भी लोग मेरे खिलाफ शिकायतें कर रहे हैं, उन सबको उठवना करवा दूंगा। शहर में दहशत का माहौल है। पुलिस अब तक संजय पालीवाल को हिरासत में नहीं ले पाई है।

आरोपी संजय पालीवाल ने शहर के बड़े व्यापारियों से लेकर खुद के नौकर को भी नहीं छोड़ा। आरोपी ने अपने ऑफिस के कर्मचारी का तीन-चार माह का वेतन 20 हजार रुपए भी नहीं दिए। उल्टा उसके नाम पर 2 लाख रुपए का लोन बैंक से निकाल लिया। आरोपी ने घंटाघर और लैंडमार्क में ऑफिस खोल रखा था। घंटाघर क्षेत्र की भाविका पटेल का 5 से 10 लाख रुपए का बैंक लोन पास करवाया, लेकिन भाविका के खाते में यह राशि अब तक नहीं आई।

सिंधी कॉलोनी के मेघराज से पेटीकोट ब्लाउस की एजेंसी देने के नाम पर 3.50 लाख रुपए नकद लिए। कंचन नगर के हितेश जायसवाल का 15 लाख का लोन स्वीकृत कराया। आरोपी ने हितेश को 3 लाख नकद दिए और 12 लाख खुद ने रख लिए। रामनगर के संजय शर्मा के साथ 9.90 लाख रुपए की धोखाधड़ी बिजनेस के नाम पर की गई। कुंडलेश्वर वार्ड के देवेंद्र शास्त्री से आरोपी ने 50 हजार रुपए उधार लिए।

शास्त्री के मुताबिक भागने से चार दिन पहले ही मैंने उसे रुपए दिए। आरोपी संजय बाबा लोगों को ठग रहा था। कुछ लोगों को हमने समझाया भी था कि बाबा के चक्कर में न पड़े। आरोपी सर्व ब्राहम्ण समाज का पदाधिकारी बन गया था। उसे हमने ही पद से हटवाया। पदम नगर थाना टीआई अंतिम पवार ने कहा आरोपी की लोकेशन ट्रेस कर रहे हैं। जल्द पकड़ा जाएगा।

5 हजार चंदा मांगने वालों को 10 हजार रुपए देता था

आरोपी संजय बाबा के पास धार्मिक कार्यक्रमों के लिए अगर कोई चंदा लेने जाता तो वह 5 हजार की जगह 10 हजार रुपए बगैर बोले देता। चंदा देने के बाद लोगों के सामने बड़ी बातें करता था। मेरा भाई आईजी है, माता-पिता जज है। नागपुर में संतरे के कई खेत हैं, जिनसे 40 करोड़ रुपए सालाना आय होती है। बड़ी बातों में लोग फंस जाते थे।

करीब 20 लोग 40 से 50 लाख रुपए की ठगी वाले

खंडवा छोड़ने से पहले उसने एक गरीब व्यक्ति से 600 रुपए लिए। इसके अलावा करीब 20 लोग ऐसे हैं जिनमें प्रत्येक से 40 से 50 लाख रुपए टेक्सटाइल के नाम पर ठगे। 10 से 15 लाख वालों की सूची तो काफी लंबी है। 1 से 2 लाख व 10 से 50 हजार तक वालों की भी गिनती करना मुश्किल है। आरोपी के खिलाफ एक महीने से शहर में माहौल बन रहा, लेकिन एक भी पीड़ित फरियादी बनने को तैयार नहीं था। रामनगर का दीपक उर्फ मुल्लू ने यह हिम्मत की।

खुद को बताया टेक्सटाइल का मालिक

आरोपी ने खुद को उद्योगपति बताकर टेक्सटाइल का मालिक बताया। फरियादी दीपक राठौर उर्फ मुल्लू निवासी रामनगर के मुताबिक आरोपी ने दो ऑफिस और गोडाउन किराए पर लिया था। यहां ऑफिस टाइम पर बैठता था। दीपक के मुताबिक वह कपड़े की एजेंसी लेना चाहता था। इसके लिए उसने आरोपी के पास 15 लाख एडवांस जमा किए। इसके बाद जब पता चला कि आरोपी लोकल का माल 100 रुपए में खरीदकर 50 रुपए में यह कहकर बेचता था कि वह उसकी खुद की फैक्ट्री का माल है इसलिए सस्ता है। दीपक को फर्जीवाड़े की भनक लगते ही उसने करीब 4 लाख रुपए किस्तों में निकाले। 9.80 लाख रुपए अब भी नहीं मिले।

ऑटो वालों को 1 हजार रु. रोज देता था

खुद को टैक्सटाइल का मालिक बताने वाला आरोपी संजय महाराज ऑटो से लैंड मार्क व बांबे बाजार वाले ऑफिस, गोडाउन व दादाजी मंदिर जाता था। संजय बाबा से दोनों ही ऑटो वाले काफी खुश थे। इन्हें भी आरोपी ने लोन के नाम पर करीब छह लाख रुपए का चूना लगा दिया। अब दोनों ही परेशान है।