Loading...

फीजियोथैरेपी काउंसिल होनी चाहिए, मैं पक्षधर हूं: दिग्विजय सिंह | BHOPAL NEWS

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री और भोपाल लोकसभा प्रत्याशी दिग्विजय सिंह ने कहा है कि अन्य मेडिकल काउंसिल की तरह फीजियोथैरेपी काउंसिल भी गठित होना चाहिये, मैं इसका पक्षधर हूं। उन्होंने कहा कि डेन्टल चिकित्सा अभी गांवों से दूर है। मैं डाॅक्टरों की इस बात से भी सहमत हूं कि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में दंत चिकित्सक भी होना चाहिये। मुख्यमंत्री कमलनाथ जो भी कहते हैं उसे पूरा करते हैं और उन्होंने 70 दिनों में 83 वचन पूरे कर दिये।

दिग्विजय सिंह आज प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कांग्रेस मेडिकल सेल के कार्यक्रम में डाॅक्टरों से रूबरू हो रहे थे। इसमें प्रदेश भर से आये सभी पद्धति के युवा डाक्टर उपस्थित थे। श्री सिंह ने कहा कि चिकित्सा की हर पद्धति में चाहे वह ऐलोपैथी हो, आयुर्वेद हो, यूनानी या हौम्योपेथी हो या फिर आशुष सभी का अलग-अलग विज्ञान है और हजारों वर्ष का निचोड़ उसमें है। उन्होंने कहा कि आयुर्वेद डाॅक्टरों के लिये छत्तीसगढ़ सरकार ने जिस तरह के आदेश जारी किये हैं, ठीक उसी तरह के आदेश आचार संहिता समाप्त होेने के बाद एक महीने के अंदर मध्यप्रदेश में भी जारी करवायेंगे। इसी तरह आयुष फैकल्टी में ब्रिज कोर्स भी शुरू करवाऐंगे। मैं शुरू से आयुर्वेद, यूनानी, होम्योपैथी में एक कांप्रिहेन्सिव ब्रिज कोर्स का पक्षधर हूं। यूनानी चिकित्सा में पीजी कोर्स न होने की समस्या पर कहा कि ग्लोबल स्तर पर इंटीग्रेटेड सिस्टम आफ मेडीसिन स्वीकार किया जा चुका है और मैं सांसद की हैसियत से इसे आगे बढ़ाऊंगा।

कृपया ‘‘राजा’’ संबोधित न करें

उद्घोषकों द्वारा बार-बार राजा शब्द के प्रयोग पर दिग्विजय सिंह ने आग्रह किया है कि वक्तागण कृपया उन्हें ‘राजा’ संबोधित न करें। प्रजातंत्र में हम सब एक समान हैं। यदि मुझे मेरे नाम से संबोधित करेंगे तो मैं आपका आभारी रहूंगा। इस अवसर पर राजगढ़ से पिछली बार आम आदमी पार्टी से चुनाव लड़ने वाले डाॅ. प्रशांत तिवारी और डाॅ. पूजा त्रिपाठी ने दिग्विजयसिंह के समक्ष कांगे्रस पार्टी की सदस्यता ग्रहण की।

कार्यक्रम में मेडिकल सेल के प्रदेश संयोजक डाॅ. साहिब अली, सचिव डाॅ. अजहर खान, पदाधिकारी डाॅ. मेघा भूषण, डाॅ. अज़ीम और डाॅ. इम्तियाज़ सहित डेन्टल ऐसोसिएशन की अध्यक्ष डाॅ. पूजा त्रिपाठी, आयुर्वेद के डाॅ. शशांक, होम्योपैथी के डाॅ. रमेश प्रेमी, यूनानी के डाॅ. फजल, फीजियोथैरेपी की अध्यक्ष डाॅ. तपस्या तोमर और मेडिकल सेल के प्रभारी डाॅ. हेमन्त वर्मा सहित सीडीई प्वाइंट कार्यक्रम के नेशनल स्पीकर डाॅ. प्रशांत त्रिपाठी, डाॅ. राहुल मारिया और डाॅ. आइन्स्टीन उपस्थित थे।