Loading...

एक शेयर ऐसा भी: 6 रुपए के निवेश पर हर साल 15 रुपए का मुनाफा | SHARE MARKET NEWS

डेस्क। लोग 5 साल में दोगुना करने वाली योजनाओं पर आंख बंद करके निवेश कर देते हैं। यदि 3 साल में डबल करने का कोई वादा करे तो निवेशकों (INVESTORS) की लाइन लग जाती है। STOCK MARKET में कई बार उतार चढ़ाव आते हैं और कुछ SHARE 1 दिन में भी दोगुनी कीमत तक पहुंच जाते हैं परंतु इन सबसे दूर एक शेयर ऐसा है भी है जिसकी कीमत मात्र 6 रुपए है जबकि वो हर साल 15 रुपए का मुनाफा (PROFIT) देता है। हालात यह है कि जिन लोगों के पास ये शेयर्स हैं, वो संकट की स्थिति में घर, जमीन, सोना सब बेच सकते हैं परंतु ये वाला शेयर नहीं बेचते। 6 रुपए वाले शेयर को लोग 6000 रुपए देने को तैयार हैं। 

पढ़िए शेयर बाजार के बाहुबली की कहानी

ये कहानी एक ऐसे शेयर की है, बीएसई (BSE) पर जिसकी कीमत 6 रुपये है और जो हर साल 15 रुपये का डिविडेंड देता है। खरीद इस शेयर को बाजार भाव से 15000 गुना कीमत पर खरीदने के लिए तैयार हैं, लेकिन कोई बेचने वाला नहीं। एल्सिड इनवेस्टमेंट (Elcid Investments) नाम से इस शेयर से न सिर्फ निवेशक बल्कि शेयर बाजार के जानकार भी हैरान हैं। दरअसल एल्सिड इनवेस्टमेंट एक स्मॉल कैप कंपनी है, लेकिन ये कंपनी ब्लूचिप कंपनी एशियन पेंट्स के प्रमोटर्स में शामिल है।

क्यों है इतनी अधिक कीमत

समाचार पत्र इकनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक एल्सिड इनवेस्टमेंट के पास एशियन पेंट्स  के 2.83 करोड़ शेयर हैं। एशियन पेट्स के शेयर का भाव शुक्रवार को 1513 रुपये था। इस आधार पर एशियन पेट्स में एल्सिड इनवेस्टमेंट की शेयर होल्डिंग्स की कीमत 4150 करोड़ रुपये से अधिक है लेकिन एल्सिड इनवेस्टमेंट की चुकता पूंजी सिर्फ 0.20 करोड़ रुपये और बाजार पूंजीकरण सिर्फ 0.12 करोड़ रुपये है।

8 महीने से नहीं हुई ट्रेडिंग

इस शेयर में पिछले 8 महीने के दौरान कोई ट्रेडिंग नहीं हुई है। अंतिम बार 9 अगस्त 2018 में ट्रेडिंग हुई थी, और इसके साथ ही 5.89 रुपये का अपर सर्किट लग गया था। 2011 से अब तक इस शेयर में सिर्फ 18 बार ट्रेडिंग हुई है। इसके बावजूद ये कंपनी हर साल 15 रुपये प्रति शेयर का लाभांश देती है।

यह 80000 रुपए का शेयर है, 6 रुपए में कोई क्यों बेचेगा

दलाल स्ट्रीट में निवेशक इस स्टॉक को खरीदना चाहते हैं, लेकिन इस शेयर की असली कीमत और वास्तविक बाजार मूल्य में भारी अंतर के कारण कोई इसे बेचना नहीं चाहता। इकनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट में हिडेन जेम्स एडवाइजरी के निदेशक आशीष चुग ने बताया, 'कोई भी निवेशक 80000 रुपये के शेयर को 6 रुपये में नहीं बेचना चाहेगा। सिर्फ कभी कभार इस बात की गुंजाइश रहती है कि गलती से ट्रेडिंग हो जाए।' एल्सिड इनवेस्टमेंट के छोटे निवेशक सेबी से हस्तक्षेप की मांग कर रहे हैं ताकि उनके हितों की रक्षा की जा सके।