Loading...

कांग्रेस नेता का बेटा हनी ट्रैप का शिकार, 2 लड़कियां, शहरकाजी का बेटा समेत 6 लोग आरोपी | NEEMUCH MP NEWS

नीमच। नीमच कैंट थाना क्षेत्र में दो युवती द्वारा एक युवक को प्रेमजाल में फंसाकर पांच लाख की अवैध वसूली के लिए धमकान और मारपीट का हनी ट्रेप का मामला शुक्रवार को सामने आया है। पुलिस ने मामले में दो महिलाओं सहित छह लोगों के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर कार्रवाई शुरू की है। जिसमें एक आरोपी पूर्व शहर काजी का पुत्र है। वहीं फरियादी युवक पूर्व पार्षद, पूर्व ब्लाक कांग्रेस अध्यक्ष और कार्यवाहक अध्यक्ष बाबू सलीम का बेटा वसीम चौपदार है, जो कि पेंट का व्यवसाय करता है।

थाना प्रभारी अजय सारवान ने बताया कि फरियादी वसीम पिता बाबू सलीम चौपदार उम्र 33 वर्ष निवासी पुराना धोबी मोहल्ला नीमच ने रिपोर्ट दर्ज कराई है कि उसकी सिंधी कॉलोनी रौड पर चौपदार पेंट की दुकान है। उसकी दो वर्ष पूर्व अजहर से उसकी मोबाइल की दुकान पर जान पहचान हुई थी। दोस्ती होने के 10-15 दिन के बाद अजहर ने उसे रंजना नागदा से दो-तीन बार उसके घर पर मिलवाया था। यह मुलाकात आम मुलाकातों से कुछ अलग थी। रंजना नागदा पहले तो वसीम पर प्यार जताती रही और फिर उसका खेल शुरू हुआ। रंजना ने उससे बोला कि उसे मोबाइल की आवश्यकता है। उसने कहा कि अभी उसके पास रुपए नहीं है। उसके बाद रंजना और रहमत ने उस पर दबाव बनाया। उसके बाद उसने एप्पल कंपनी का 32 हजार का मोबाइल उसे दिलवाया था। जो कि रहमत के नाम पर बिल पर लिया था। उसके बाद धीरे-धीरे रंजना नागदा, रहमत और अजहर आदि ने मिलकर उसे विश्वास में लिया। उसके बाद एक बार दो लाख रुपए मांगे और उसके बाद तीन लाख रुपए मांगे। उसके बाद योजना बनाकर शालू नाम की लड़की से मिलवाया और दोस्ती करवाई। 

आज से करीबन दो माह पहले रंजना ने उसे फोन कर घर पर बुलाया। वहां पहुंचा तो रंजना और शालू घर पर थी। जैसे ही कमरे गया और शालू से बातचीत करने लगा, रंजना उठकर बाहर आ गई और शालू ने कमरे का दरवाजा बंद कर दिया। वह चिल्लाने लगा कि दरवाजा क्यों बंद किया है तो रंजना ने दरवाजा खोला और उसके पास भूरा खड़ा था। भूरा ने उसके साथ मारपीट शुरू कर दी। वह कहने लगा कि शालू उसकी दोस्त है। वह उस पर पांच से छह लाख रुपए खर्च कर चुका है। इस पर रंजना ने दोनों शांत करते हुए समझाइश करते हुए कहा कि भूरा को तीन लाख रुपए देने होंगे। वरना उसे बदनाम कर देंगे। रंजना के सामने भूरा को 90 हजार रुपए दिए। बाकी रुपए के लिए बार-बार रंजना मांग करने लगी। उसके बाद फिर उसे 50 हजार रुपए और फिर 15 दिन बाद 60 हजार रुपए रंजना को दिए। आठ-आठ दिन के अंतराल में 50-50 हजार कर एक लाख रुपए दिए। उसेक बाद दिनांक 10 अप्रेल 2019 की शाम को करीब सात बजे अजहर का फोन आया और बोला कि बोहरा गली के पास आकर मिलो। फिर वहां फोन पर रंजना से बात कराई। फोन पर रंजना ने दो लाख रुपए की मांग कर शाम तक देने के लिए कहा। 

रंजना बोली अगर नहीं दिए तो वीडियो रिकॉर्डिंग वायरल कर बदनाम कर देगी। फिर इसी दिन रात्रि दस बजे अजहर का फोन आया और बोला कि उसे कमल चौक पुराना सेंट्रल बैंक के पास गली में मिल। वह वहां पहुंचा तो अजहर, रहमत और मोहम्मद दोनों हाथ से मोबाइल छीन लिया। रहमत कहने लगा पूरा मामला खत्म कर देंगे, पांच लाख रुपए लाकर दे दे। उसने इतने रुपए देने से इंकार कर दिया। तब अजहर, मोहम्मद, रहमत ने लात-धूसों से मारपीट शुरू कर दी। उसके चिल्लाने पर उसका भाई नदीम वहां पहुचा, वह धमकाते हुए चले गए किसी को बताया तो अच्छा नहीं होगा। उसके बाद भाई नदीम और अंकल अनवर हुसैन के साथ थाने पहुंचकर आरोपियों के खिलाफ थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई है। मामले में आरोपी रहमत पूर्व शहर काजी हिदायत उल्ला खां का पुत्र है।