Loading...

2 जिलों के कलेक्टर/एसी एवं 1 IAS अफसर के खिलाफ आचार संहिता उल्लंघन की शिकायत | MP NEWS

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रतिनिधि मण्डल ने रविवार को निर्वाचन आयोग पहुंचकर पांच अलग-अलग मामलों में कांग्रेस और कमलनाथ सरकार की शिकायत की है। प्रतिनिधि मंडल में पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष श्री विजेश लूणावत, प्रदेश प्रवक्ता श्री हिदायतुल्लाह शेख सहित अन्य नेतागण शामिल थे। 

प्रतिनिधि मंडल ने छतरपुर कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक की चुनाव आयोग को की गई शिकायत में कहा कि छतरपुर कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक ने चार दिन पूर्व छतरपुर के कांग्रेस आलोक चतुर्वेदी के साथ अधिकारियों की बैठक करवाई। यह अधिकारी कांग्रेस के पक्ष में काम कर रहे हैं। प्रतिनिधि मंडल ने चुनाव आयोग से मांग की है कि तत्काल छतरपुर कलेक्टर और एसपी को हटाया जाए। इसी प्रकार नरसिंहपुर कलेक्टर और एसपी की शिकायत करते हुए कहा कि दोनों अधिकारी कांग्रेस पार्टी के पक्ष में काम कर रहे हैं। भाजपा का आरोप है कि कांग्रेस प्रवक्ता पंकज चतुर्वेदी और कांग्रेस कार्यकर्ताओं के इशारे पर पुलिस और प्रशासन भाजपा नेताओं के खिलाफ झूठी कार्यवाही कर रही है।

आईएएस अमरपाल सिंह अपनी पत्नी का प्रचार कर रहे हैं

प्रतिनिधि मंडल ने एक अन्य शिकायत में कहा कि उमरिया के कलेक्टर रहे अमरपाल सिंह की भाजपा ने शिकायत की थी, जिस पर संज्ञान लेते हुए उमरिया से हटाकर भोपाल में पदस्थ किया गया था। शिकायत में कहा गया कि श्री अमरपाल सिंह वर्तमान में भोपाल में पदस्थ हैं लेकिन वे बिना बताए भोपाल मुख्यालय छोड़कर उमरिया में अपनी पत्नी और कांग्रेस प्रत्याशी श्रीमती प्रमिला सिंह के प्रचार में लगे हुए हैं। जो कि आदर्श आचार संहिता का खुला उल्लंघन है। भाजपा ने अमरपाल सिंह से शिकायत करते हुए कार्यवाही की मांग की है। 

किसानों को कर्जमाफी के एसएमएस भेजे जा रहे हैं

प्रतिनिधि मंडल ने एक अन्य शिकायत में कहा कि कांग्रेस द्वारा प्रदेश में विभिन्न स्थानों पर बिना परमिशन के होर्डिंग लगाए जा रहे हैं जो कि आचार संहिता का उल्लंघन है। आयोग संज्ञान लेकर उचित कार्यवाही करें। अन्य शिकायत में प्रतिनिधि मंडल ने कहा कि भाजपा द्वारा सरकार की जय किसान ऋण माफी योजना के हितग्राही किसानों की सूची मांगी गई थी जिसे अभी तक उपलब्ध नहीं करवाया गया। कुछ स्थानों पर आचार संहिता लगने के बाद भी कलेक्टर्स द्वारा किसानों को कर्जमाफी के मैसेज भेंजे जा रहे हैं, जो कि आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन है। प्रतिनिधि मंडल ने मांग करते हुए कहा कि उन्हें तत्काल जय किसान ऋण माफी योजना के हितग्राहियों की सूची उपलब्ध कराई जाए।