LOKSABHA CHUNAV HINDI NEWS यहां सर्च करें




डॉ. शिवम मिश्रा सुसाइड केस: कैंडल बुझते ही जांच भी रुक गई | SIDHI MP NEWS

01 March 2019

सीधी। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र चुरहट में पदस्थ डॉ. शिवम मिश्रा की संदिग्ध मौत के बाद पूरे प्रदेश में कैंडल मार्च निकाले गए और जांच भी शुरू हुई परंतु कैंडल बुझते ही जांच भी रुक गई। महीना भर बीत गया लेकिन पुलिस जांच रिपोर्ट नहीं बना पाई जबकि सारा मामला आइने की तरह साफ और दस्तावेजी प्रमाण के साथ सार्वजनिक है। 

शुरुआती दौर में सड़क पर उतरकर कैंडल मार्च करने वाले संगठनों की चुप्पी भी सवालों के घेरे में है। माना जा रहा है कि शायद उन्हें भी इस घटना से कोई सरोकार नहीं रहा। पुलिस व मजिस्ट्रेटियल जांच की दिशा क्या है? जांच में लगा अमला भी बताने को तैयार नहीं है। संभवत: वे इंतजार कर रहे हैं कि समय गुजर जाए तो मामले को ठंडे बस्ते में डाल दिया जाय।

फंदे से लटकता मिला था शव 

डॉ. शिवम मिश्रा का शव उनके सरकारी आवास में फंदे से लटकता मिला था। इसमें विभाग के बड़े अधिकारियों व स्टाफ नर्स की भूमिका पर सवाल उठाए जा रहे थे। उसने एससी-एसटी एक्ट का मामला पंजीबद्ध कराया था। आरोप है कि पुलिस व विभागीय अधिकारियों का लगातार दबाव बढऩे के कारण डॉ. मिश्रा को न्याय की उम्मीद कम थी और इसी के चलते उन्होंने सुसाइड किया। 

कार्यवाही पर सवाल 

सवाल ये भी है कि आत्महत्या के लिए उन्होंने सुबह 10 बजे का समय ही क्यों चुना। इसे लेकर भी कई तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं। इस मामले में डॉ. शिवम के परिजन भी शुरू में ही चल रही जांच को लेकर प्रश्रचिन्ह लगा चुके हैं। उनके द्वारा बड़े अधिकारियों से भी मामले की सक्षम जांच कराने की मांग की गई थी।

सीबीआइ जांच की मांग 

विभागीय अमले का भी मानना है कि सच्चाई तभी उजागर हो सकती है, जब इसकी जांच बड़ी एजेंसी को सौंपी जाए। सीबीआई जांच को लेकर प्रशासन को कई बार ज्ञापन भी सौंपा गया। लेकिन आश्वासन ही मिला। जिला स्तर से सीबीआई जांच की अनुशंसा न होने के कारण यह लगभग अनिश्चितता के घेरे में है।

सही तरीके से नहीं हो रही जांच 

लोगों का मानना है कि जिला स्तर पर बड़े अधिकारियों के दबाव के चलते डॉ. शिवम मिश्रा के मौत के मामले की जांच सही तरीके से नहीं हो रही है। मजिस्ट्रेटियल जांच की जिम्मेदारी भी जिन्हे सौंपी गई थी। उनके द्वारा तत्परता पूर्वक अपनी जांच नही शुरू की गई। जिसके चलते मौके पर जो भी साक्ष्य मौजूद थे। उन्हे मिटाने के लिए इस षडयंत्र में शामिल लोगों को भरपूर समय जानबूझकर दिया गया है।

मोबाइल की काल डिटेल 

डॉ. शिवम मिश्रा के मौत के मामले की जांच पुलिस द्वारा की जा रही है। विसरा को जहां प्रयोगशाला जांच के लिए भेजा गया है वहीं उनके मोबाइल की काल डिटेल पर भी पुलिस मिले साक्ष्यों पर अपनी विवेचना को आगे बढ़ा रही है। साथ ही ऐसे सभी लोगों से अपील है कि यदि उनके पास मामले से जुड़े कोई भी साक्ष्य या क्लिप मौजूद है वह पुलिस को अविलंब उपलब्ध कराए। 
सूर्यकांत शर्मा, एएसपी, सीधी



-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Suggested News

Loading...

Advertisement

Popular News This Week

 
-->