Loading...

"मैं जा रही हूं। अब बच्चों को छुट्टी नहीं करनी पड़ेगी" लिख महिला ने किया सुसाइड | MP NEWS

इंदौर। मेरे मरने का गम मत करना' लिखकर मूक-बधिर स्कूल से सेवानिवृत्त महिला कर्मचारी ने फांसी लगा ली। गुरुवार सुबह छोटी बहन उठाने कमरे में गई तो घटना का पता चला। सुसाइड नोट में स्वेच्छा से आत्महत्या करने का उल्लेख है।

हीरा नगर थाना प्रभारी राजीव सिंह भदौरिया के अनुसार मृतक शशि (70) पिता हरि (Sashi Hari Pathak) पाठक निवासी वीणा नगर है। शशि अपने छोटे भाई प्रदीप, उसकी पत्नी रश्मि और छोटी बहन मीनाक्षी के साथ रहती थी। उसने शादी नहीं की थी। रिटायर होने के पहले वह स्कूल में लिपिक के रूप में कार्यरत थी। वह नौ भाई-बहनों में सबसे बड़ी थी।

गुरुवार सुबह मीनाक्षी (Meenakshi) उसे कमरे में उठाने गई थी। इसके बाद उसे घटना का पता चला था। कमरे से मिले सुसाइड नोट में उसने लिखा है- 'मैं जा रही हूं। किसी प्रकार का गम मत करना। बच्चों को मेरे कारण छुट्टी करने की जरूरत नहीं है। सभी खुश रहो।' एमवायएच में पीएम कराने के बाद पुलिस ने शव परिजन को सौंप दिया।