LOKSABHA CHUNAV HINDI NEWS यहां सर्च करें




ICICI FD XTRA Review: ब्याज कम, शर्तें बहुत ज्यादा | INVESTMENT PLAN

01 March 2019

वित्तीय निवेश ( financial investment ) में एक बैंक एफडी( BANK FD ) ही थी जिसके साथ बीमा ( Insurance ) संलग्न नहीं हुआ था परंतु अब ICICI Bank ने यह भी शुरू कर दिया है। FD XTRA के नाम से लांच की गई निवेश योजना ( Investment plan ) में बैंक अपने ग्राहकों को फिक्स डिपॉजिट ( Fixed Deposit ) के साथ बीमा भी बेच रहा है। यह बीमा बड़ी ही चतुराई के साथ बेचा जा रहा है। ग्राहक को फायदे दिखाए जा रहे हैं जबकि असल में वो बैंक एफडी के इतर कुछ अन्य नियम व शर्तों के जाल में उलझ रहा है। 

FD XTRA में XTRA क्या मिलेगा / What will XTRA get in FD XTRA

FD लाइफ वेरिएंट में 18 से 50 साल के व्यक्ति को लाइफ कवर मिलेगा। इस कवर में अधिकतम 3 लाख रुपये का लाइफ कवर मिलेगा। यहां तक तो ठीक था कि चलो अपने निकटतम प्रतिस्पर्धी की तुलना में बैंक FD पर ब्याज कुछ कम दे रहा है तो कुछ XTRA देकर उसकी भरपाई कर रहा है परंतु यहां बैंक ने शर्त लगा दी है। ये लाइफ कवर कम से कम 2 साल के लिए होना चाहिए। यह सिर्फ पहले साल के लिए फ्री है। दूसरे साल से ग्राहकों को प्रीमियम देना होगा।

FD XTRA को बीच में तोड़ा तो क्या होगा / What will happen if the FD XTRA breaks in the middle

अगर आपने FD के पूरा होने से पहले उससे पैसे निकाले या FD को तोड़ना चाहा तो आपका लाइफ कवर भी उसी दिन से बंद हो जाएगा। यह तो उचित है, जब FD ही नहीं रहेगी तो XTRA पर कोई अपना हक कैसे जता सकता है परंतु बैंक ने यहां भी एक शर्त जोड़ दी। यदि आप बीच में FD तोड़ते हैं तो आप पर पेनल्टी चार्ज भी लग सकते हैं। यानी आप FD XTRA को सामान्य FD की तरह कभी भी तोड़ नहीं सकते। 

FD XTRA में मिलने वाला बीमा कैसा है / How insurance is available in FD XTRA

बैंक द्वारा दिया जा रहा लाइफ कवर एक जीवन बीमा कंपनी के जरिए एक ग्रुप इंश्योरेंस कवर है। यानी इसमें ग्राहक को पॉलिसी नहीं मिलेगी बस एक रसीद दी जाएगी जो क्लैक के समय काम आएगी। बता दें कि ग्रुप इंश्योरेंस कवर में नियम व शर्तें भी अक्सर ऐसी होतीं हैं कि ज्यादातर क्लैम रिजेक्ट हो जाए। 

क्या बीमा कंपनी क्लैम को ठुकरा सकती है / Can the insurance company reject the clam

बीमा कंपनी और और बीमा धारक के बीच इंश्योरेंस एक समझौता है जो भरोसे के सिद्धांतों पर टिका होता है। ऐसे एफडी के लिए आवेदन फॉर्म भरते समय, आवेदक को यह जानकारी देनी होती है कि उसका स्वास्थ्य बेहतर है। उसे कोई गंभीर बीमारी नहीं है। अगर आवेदक यह घोषित करता है कि उसका स्वास्थ्य अच्छा नहीं है, तो उसे लाइफ कवर नहीं दिया जाता है लेकिन यह भी याद रखने की बात है कि, कोई भी गलत घोषणा दावे को ठुकरा सकती है।



-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Suggested News

Loading...

Advertisement

Popular News This Week

 
-->