Loading...

कट्टरवादी कमलनाथ कांग्रेस में अस्वीकार, विधायक भी नाराज | MP NEWS

भोपाल। वोट के लिए सरकार की कट्टरवादी कार्रवाई की चारों ओर निंदा की जा रही है। कमलनाथ सरकार ने गोहत्या के मामले में रासुका (NSA) के तहत कार्रवाई की है। यह पूरे देश में चर्चा का विषय बन गई है। मध्यप्रदेश में कांग्रेस के सबसे ताकतवर नेता दिग्विजय सिंह के बाद अब संगठन और विधायकों में भी नाराजगी नजर आ रही है। 

कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद ने मुख्यमंत्री कमलनाथ को पत्र लिखा है। पत्र में आरिफ मसूद ने खंडवा में गौकशी के मामले में रासुका की कार्रवाई को एक पक्षीय बताया है। इससे पहले मामले में मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने भी सवाल खड़े किए थे। पी चिदंबरम ने गोहत्या के मामले में तीन लोगों की रासुका के तरह गिरफ्तारी को गलत करार दिया है और कहा कि इसे मध्य प्रदेश सरकार के सामने उठाया गया है।

मामला क्या है
खंडवा जिले में गोहत्या के आरोप में तीन लोगों और आगर मालवा में गौवंश की अवैध तस्करी के आरोप में दो लोगों पर राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम (रासुका) के तहत कार्रवाई की गई है। खंडवा जिले के मोघट थाने के खरखाली गांव में गो-हत्या के मामले में पकड़े गए तीन आरोपियों के खिलाफ रासुका की कार्रवाई की गई है। तीन आरोपियों में से दो को बीते शुक्रवार और एक को सोमवार को पकड़ा गया था। मध्य प्रदेश का खंडवा जिला काफ़ी संवेदनशील माना जाता रहा है। सरकार दावा करती है कि इस क्षेत्र में सिमी के कार्यक्रता काफ़ी सक्रिय हैं।