Loading...

खबर का असर: खरगापुर तहसीलदार सुनील वर्मा सस्पेंड | MP NEWS

भोपाल। भोपाल समाचार की खबर पूरे देश की सुर्खियां बनी और उसका असर हुआ है। टीकमगढ़ जिले की खरगापुर तहसील (KHARGAPUR TEHSIL, TIKAMGARH) के प्रभारी तहसीलदार सुनील वर्मा (TEHSILDAR SUNIL VERMA) को सस्पेंड कर दिया गया है। बता दें कि नामांतरण के लिए चक्कर लगा रहे एक किसान ने तहसील कार्यालय में आकर तहसीलदार की जीप से अपनी भैंस बांध दी थी। यह खबर सबसे पहले भोपाल समाचार ने प्रसारित की और उसके बाद देश भर की मीडिया में सुर्खियां बनी। (पढ़ें: तहसीलदार ने रिश्वत मांगी, किसान ने भैंस लाकर जीप से बांध दी)

आज मप्र शासन की ओर से जारी आधिकारिक प्रेस रिलीज में बताया गया है कि मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ की भ्रष्टाचार के प्रति जीरो टॉलरेंस की नीति के अनुरूप नायब तहसीलदार एवं प्रभारी नायब तहसीलदार एवं प्रभारी तहसीलदार खरगापुर, जिला टीकमगढ़ को ग्राम गुना के नामांतरण प्रकरण में अनियमितता का दोषी पाये जाने पर तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। उल्लेखनीय है कि राजस्व एवं परिवहन मंत्री तथा टीकमगढ़ जिला प्रभारी मंत्री श्री गोविंद सिंह राजपूत ने भी इस प्रकरण में तत्काल संज्ञान लेकर जिला कलेक्टर को शीघ्र जाँच कर कार्यवाही करने के लिये निर्देशित किया था।

जिला कलेक्टर ने अनुविभागीय अधिकारी बलदेवगढ़ द्वारा प्रकरण में प्रस्तुत रिपोर्ट में तहसील खरगापुर के ग्राम देवपुर स्थित भूमि खसरा नम्बर 637, 648/1 में से रकबा 0.161 आरे के नामांतरण प्रकरण में प्रभारी तहसीलदार सुनील वर्मा को अनियमितता बरतने का दोषी पाया। इसके बाद नायब तहसीलदार सुनील वर्मा के निलंबन आदेश आज जारी किये गये। निलंबन अवधि में नायब तहसीलदार सुनील वर्मा का मुख्यालय अनुविभागीय अधिकारी कार्यालय, जतारा नियत किया गया है। तहसीलदार बलदेवगढ़ श्री महेन्द्र कुमार गुप्ता को अपने कार्य के साथ खरगापुर तहसीलदार का दायित्व सौंपा गया है।