Loading...

विलुप्त होता तेंदुआ | EDITORIAL by Rakesh Dubey

NEW DELHI : देश के जिन-जिन राज्यों में तेंदुआ पाया जाता है,वहां शिकार से इतर भी तेंदुए मारे गये है और मारे जा रहे हैं।कहने को मध्यप्रदेश तेंदुए के लिए सुरक्षित जगह है। मध्य प्रदेश में भारतीय तेंदुए की आबादी का सबसे बड़ा घर है और वे मध्य भारत के कई राष्ट्रीय उद्यानों में और आसपास के बाघों के आवास में रहते हैं। मध्य प्रदेश में 10 राष्ट्रीय उद्यान और 25 वन्यजीव अभयारण्य हैं, बांधवगढ़ पार्क में तेंदुओं की बड़ी आबादी है। पिछले ३७ तेंदुए मारे गये है।

वाइल्डलाइफ प्रोटेक्शन सोसाइटी ऑफ इंडिया के अनुसार, २०१८ भारत में ४६० तेंदुए की मौतें हुई हैं, जो कि सबसे अधिक मृत्यु दर है। अवैध शिकार, रोडकिल और मानव वन्यजीव संघर्ष की विभिन्न घटनाओं के कारण देश बड़ी बिल्ली प्रजातियों को खो रहा है। भारतीय राज्यों में अवैध शिकार, सड़क दुर्घटनाओं में सबसे अधिक तेंदुए की मृत्यु दर, बचाव अभियान में मारे गए, बीमारियों के कारण मृत पाए गए, तेंदुए को ग्रामीणों द्वारा मार दिया गया | वन विभाग ने भी आदमखोर बता क्र इस पर हाथ साफ किये है।

सबसे ज्यादा ९३ मौतें उत्तराखंड में दर्ज की गई। उत्तराखंड राज्य हिमालय में स्थित है, राष्ट्रीय उद्यान और उत्तराखंड के अभयारण्य भारत की ३ बड़ी बिल्ली प्रजातियों टाइगर, तेंदुए और हिम तेंदुए के घर हैं। २०१८ में उत्तराखंड में तेंदुए की मृत्यु दर सबसे अधिक है, इसके बाद महाराष्ट्र है। राज्य में रुद्रप्रयाग के तेंदुए और कुमाऊं बंगाल के बाघों और भारतीय तेंदुओं के खाने वाले मनुष्य के साथ मानव तेंदुए के संघर्ष का लंबा इतिहास है।

महाराष्ट्र में ९० तेंदुओं की मौत हुई है। वैसे महाराष्ट्र राज्य में कई दुर्लभ प्रजाति के जीवों का निवास है, लेकिन २०१८ में तेंदुए की अधिक मौतें हुईं। महाराष्ट्र में हर महीने औसतन १० भारतीय तेंदुओं की मौत वाहन की टक्कर, सड़क पर शिकार और खुले कुओं में गिरने की वजह से होती है।२०१८ के पहले ३ महीने में महाराष्ट्र में कम से कम१८ तेंदुए मृत पाए गए, यूँ तो संजय गांधी राष्ट्रीय उद्यान तेंदुओं की एक छोटी आबादी का घर कहा जाता है, जो मुंबई के एक महानगर में रहते हैं और मौजूद हैं। इस राज्य में इसके संरक्ष्ण के उपाय नकाफी पाए गये।

वैसे राजस्थान राज्य वन्य जीवन के प्रति लोगों और संस्कृति के अनुकूल प्रकृति के लिए प्रसिद्ध है, लेकिन फिर भी भारतीय तेंदुओं की 46 मौतों की सूचना मिली है । जवाई बांध ग्रेनाइट पहाड़ियों के पास जवाई और बेरा गांव भारत में राजस्थान में तेंदुए के उच्च घनत्व की मेजबानी करते हैं, भारत में परियोजना तेंदुए को लॉन्च करने के लिए और साथ ही मनुष्यों के साथ रहने वाले बेरा के तेंदुए यहाँ अधिक मिलते है और मरने की संख्या बढ़ रही है।

उत्तर प्रदेश भारत का सबसे अधिक आबादी वाला राज्य है और यहाँ प्राकृतिक संसाधनों की बहुतायत है, यहाँ भी ३७ मौतें दर्ज हुई हैं । वन्यजीवों का तेजी से वनों की कटाई और अवैध शिकार राज्य में मानव पशु संघर्ष मामलों की सूची का कारण इस राज्य की सूची पर लाल निशान लगा है। उत्तर प्रदेश से संघर्ष के विभिन्न मामले हैं जहां तेंदुए को जिंदा जलाया गया, तेंदुआ स्कूल में दाखिल हुआ, तेंदुआ एक जाल में फंस गया, जैसी खबरे आम है।

कहने को कर्नाटक राज्य में ५ प्रसिद्ध राष्ट्रीय उद्यान और २१ वन्यजीव अभयारण्य हैं, यहाँ भी २४ तेंदुए मारे गये हैं। वनस्पतियों और जीवों की समृद्ध विविधता वाले राज्य में भी इस विषय की अनदेखी हुई है। कर्नाटक के ये वन हाथियों की अच्छी आबादी, भारत की बाघों की आबादी, ब्लैक पैंथर या मेलेनिस्टिक तेंदुए के साथ-साथ भारतीय तेंदुए के भी घर हैं लेकिन इनकी वजह से हादसे, हाथियों और तेंदुओं की मौत जैसी घटनाओं के कारण मौत हो रही है।

हिमाचल प्रदेश में भी २३ तेंदुओं की मौते दर्ज़ हुई है। भारतीय राज्य हिमाचल प्रदेश अतीत में गुजरात, उत्तराखंड और पश्चिम बंगाल राज्यों के साथ गंभीर मानव तेंदुए संघर्ष का अनुभव करते हैं। राज्य के वन्यजीव अधिकारी इस बात की पुष्टि करते हैं कि मनुष्यों पर तेंदुओं के हमलों में कमी आई है, लेकिन फिर भी मानव पर हमला करने वाली बड़ी बिल्ली और वन विभाग द्वारा गोली मारकर हत्या कर दी गई है, हिमाचल प्रदेश में लगभग ७०० तेंदुए बचे हैं।

भारतीय तेंदुआ भारतीय उपमहाद्वीप में पाई जाने वाली बड़ी बिल्लियों की खूबसूरत प्रजाति और वल्नरेबल के रूप में सूचीबद्ध है। अवैध शिकार, खाल के अवैध व्यापार, आवास के नुकसान और वन्यजीव संघर्ष के कारण इसकी आबादी में गिरावट आई है।
देश और मध्यप्रदेश की बड़ी खबरें MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com
श्री राकेश दुबे वरिष्ठ पत्रकार एवं स्तंभकार हैं।
संपर्क  9425022703        
rakeshdubeyrsa@gmail.com
पूर्व में प्रकाशित लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए
आप हमें ट्विटर और फ़ेसबुक पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।