मध्यप्रदेश : फिर 52 साल बाद | EDITORIAL by Rakesh Dubey

Advertisement

मध्यप्रदेश : फिर 52 साल बाद | EDITORIAL by Rakesh Dubey

52 साल बाद आज फिर मध्यप्रदेश विधानसभा में विधान सभा अध्यक्ष का चुनाव होने जा रहा है। रात दिन अपने विधायकों को संभालने में जुटी कांग्रेस और भाजपा दोनों को “क्रास वोटिंग” का अंदेशा है। वैसे यह कांग्रेस सरकार का पहला शक्ति परीक्षण है, दिग्विजय सिंह भाजपा पर विधायकों की खरीद का आरोप लगा ही चुके है। कांग्रेस के एनपी प्रजापति और भाजपा के  विजय शाह मैदान में है। 52 साल पहले 1967 में विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव हुआ था। तब संविद सरकार थी।  कांग्रेस के काशीप्रसाद पांडे  172 और सोशलिस्ट पार्टी के चंद्रप्रकाश मिश्रा  117 वोट प्राप्त करने में सफल रहे थे। तब और अब की राजनीति में जमीन आसमान का अंतर आ गया है। यह नौबत प्रोटेम स्पीकर के चुनाव में पिछली परम्परा को छोड़ने से आई  है। हद तो ये है पक्ष-प्रतिपक्ष एक दूसरे पर स्थापित परम्परा तोड़ने का आरोप लगा रहा है। विधायकों की खरीद फरोख्त जैसी बातें ऐसे चल रही है, जैसे मंडी में  नीलामी।

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाया कि भाजपा के कई नेताओं ने हमारे विधायकों को 100-100 करोड़ का ऑफर दिया है, ताकि वे भाजपा के पक्ष में वोटिंग करें। उन्होंने दावा किया कि ‘मेरे पास इस बात के पुख्ता सबूत रिकार्डिग में हैं। जरूरत पड़ने पर इसे सार्वजनिक करूंगा।’ वैसे कांग्रेस ने पहली बार के विधायकों को बताया- वोट कैसे डालना है। मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा दिए गये भोज में चारों निर्दलीय प्रदीप जायसवाल, सुरेंद्र ठाकुर,  विक्रम राणा, केदार डाबर समेत बसपा के संजीव कुशवाह और सपा के राजेश शुक्ला शामिल हुए। नाराज चल रहे विधायक राजवर्धन दत्तीगांव से मुख्यमंत्री मिलने पहुंचे। लेकिन, केपी सिंह ने मुख्यमंत्री की ओर देखा तक नहीं भाजपा के आठ असंतुष्ट विधायकों पर भी कांग्रेस की नजर है | आज सदन में कुछ चौकाने वाला भी होने से इंकार नहीं किया जा सकता |

भाजपा ने  विजय शाह को जिताने की जिम्मेदारी राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय को दे रखी है। उनके रतजगे में नरोत्तम, भूपेंद्र सिंह और विश्वास सारंग समेत अन्य नेताओं ने शिरकत की |इस रतजगे के दौरान  में कांग्रेस के असंतुष्ट, छोटे दलों के विधायकों से संपर्क के प्रयास किए गये । भाजपा संगठन ने तीन टीमें बनाई हैं जो भाजपा के विधायकों को निगरानी में रखे हुए हैं। 

कल विधानसभा में  पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा था कि कांग्रेस ने प्रोटेम स्पीकर के चयन में संसदीय परंपरा तोड़ी है। सदन में जब सात से आठ बार के विधायक हैं तो वरिष्ठता के आधार पर उन्हें प्रोटेम स्पीकर बनाया जाना चाहिए। सदन से बाहर भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने दोहराया कि २०१४  में लोकसभा में भाजपा को स्पष्ट बहुमत होने के बाद भी वरिष्ठतम सांसद होने के नाते कमलनाथ को प्रोटेम स्पीकर बनाया गया था और उन्होंने ही सभी सदस्यों को सांसद पद की शपथ दिलाई थी । अब मध्यप्रदेश में कांग्रेस ने इस परंपरा को को तोड़कर वरिष्टता क्रम में दीपक सक्सेना को प्रोटेम स्पीकर बनाया है। 

वैसे प्रोटेम स्पीकर की भूमिका सदन में शपथ दिलाने से अधिक नहीं होती है, मत विभाजन बराबर रहने पर उसे अपन मत देने का अधिकार होता है | इस बार सदन में दोनों दल आशंकित हैं | दोनों और असंतुष्ट है | मामला बराबरी का है।
देश और मध्यप्रदेश की बड़ी खबरें MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com
श्री राकेश दुबे वरिष्ठ पत्रकार एवं स्तंभकार हैं।
संपर्क  9425022703        
rakeshdubeyrsa@gmail.com
पूर्व में प्रकाशित लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए
आप हमें ट्विटर और फ़ेसबुक पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।