Advertisement

KAMAL NATH ने व्यापमं आरोपियों के वकील को अतिरिक्त महाधिवक्ता क्यों बनाया: भाजपा | MP NEWS



भोपाल। व्यापमं की आग अब भी धधक रही है और अब इसकी आंच कांग्रेस की कमलनाथ सरकार तक पहुंचने लगी है। व्यापमं घोटाले के खिलाफ खुद कमलनाथ भी प्रदर्शन कर चुके हैं। दिग्विजय सिंह, कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया के खिलाफ मामला भी दर्ज हुआ है। अब व्यापमं घोटाले से जुड़े लोगों की प्रमुख पदों पर पदस्थापना ने सीएम कमलनाथ को कटघरे में लाकर खड़ा कर दिया है। 

मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद भी व्यापम का मुद्दा गर्म है. अब बीजेपी कांग्रेस पर हमलावर होना शुरु हो गई है. बीजेपी का आरोप है कि कांग्रेस जिन आरोपियों को व्यापम का मास्टरमाइंड बताती थी आज उन्हीं की मदद कर रही है और कई व्यापम के आरोपियों की मदद करने वालों को बड़े पदों पर भी बैठा रही है. वहीं बीजेपी ने चेतावनी भी दी है कि कांग्रेस ने इन मददगारों का खुलासा नहीं किया तो बीजेपी उनके नामों का खुलासा खुद करेगी.

बीजेपी के प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल का कहना है कि अब व्यापमं के आरोपियों को छुड़ाने में वर्तमान सरकार मदद कर रही है। बीजेपी का कहना है कि एडवोकेट अजय गुप्ता व शशांक शेखर व्यापमं के कई आरोपियों के वकील रहे और अभी भी कई आरोपियों की मदद कर रहे हैं। कमलनाथ सरकार ने उन्हे अतिरिक्त महाधिवक्ता नियुक्त कर दिया है। एक प्रकार से यह व्यापमं के रसूखदार आरोपियों को मदद पहुंचाने का मामला है। 

और क्या क्या हैं मामले
वरिष्ठ आईएएस अधिकारी शमीमुद्दीन को अलीराजपुर कलेक्टर बना दिया। 
डॉ मंसूरी को जीवाजी यूनिवर्सिटी का प्रभारी कुलसचिव बनाया दिया। 
दागी नेता संजीव सक्सेना को कांग्रेस का प्रदेश महासचिव बनाया जा चुका है। 
पंकज त्रिवेदी की ज़मानत भी अब मुद्दा बन गई है। 

बीजेपी प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल के मुताबिक कांग्रेस ने तत्कालीन बीजेपी सरकार को बदनाम करने की साज़िश रची थी जिसके तहत इन सारे लोगों को मोहरा बनाया गया। बीजेपी का कहना है कि अगर कांग्रेस ने इन मददगारों का खुलासा नहीं किया तो बीजेपी अब सिलसिलेवार व्यापम की आरोपियों की मदद करने वालों के नामों का खुलासा करेगी।