Loading...

मैं अच्छे SCHOOL में पढ़ लेता, तो शायद कुछ और होता, आत्महत्या | BHOPAL NEWS

भोपाल। भारत में बहुत सारे बच्चे अच्छे स्कूलों में दाखिला तो लेते हैं परंतु मन लगाकर पढ़ाई नहीं करते। वहीं कुछ ऐसे भी होते हैं जिन्हे अच्छा स्कूल नहीं मिल पाता परंतु वो होनहार होते हैं। अपने करियर को लेकर परेशान 20 वर्षीय युवक ने सुसाइड कर लिया। लोग बता रहे हैं कि वो होनहार छात्र था। स्कूल और कॉलेज में हमेशा टॉपर्स की लिस्ट में रहा परंतु शायद वो अपनी रैंक से संतुष्ट नहीं था। उसने मोबाइल फोन के मेमो पर एक सुसाइड नोट में लिखा- अगर मैं अच्छे स्कूल में पढ़ लेता, तो शायद कुछ और होता, लेकिन मेरी मौत के लिए कोई जिम्मेदार नहीं है।

बाग उमराव दूल्हा ऐशबाग निवासी 20 वर्षीय गुफरान कादरी पिता अनवर खान एक कॉल सेंटर में जॉब करता था। मृतक के बड़े भाई इमरान के अनुसार गुफरान काफी समय से मानसिक तनाव में था। कुछ दिन पहले ही उसने नई कंपनी ज्वाइन की थी। गुफरान सोमवार रात अॉफिस से घर लौटा और अपने कमरे में चला गया। मां काम कर रही थीं, जबकि बहन बगल वाले कमरे में थी। काफी देर तक आवाज नहीं आने पर मां ने दरवाजा खटखटाया, लेकिन गुफरान ने कोई जवाब नहीं दिया। 

मां ने घर के पीछे की खिड़की से अंदर झांका। गुफरान फंदे पर दिखा वे उसी छोटी सी खिड़की से किसी तरह अंदर घुसी और गुफरान के पैर पकड़ लिए। मां के सिर पर भी चोट लग गई थी। उनकी चीख सुनकर बहन किसी तरह दरवाजा खोलकर अंदर पहुंची। पड़ोसी उसे अस्पताल लेकर गए जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।