Loading...

NRI DOCTOR से शादी के सपनों में खोई हाईप्रोफाइल लड़की, 16 लाख ठगी के बाद तंद्रा टूटी | CRIME NEWS

जबलपुर। शहर के एक हाईप्रोफाइल लड़की फेमिली की लड़की ने खुद को एक मेट्रिमोनियल साइट पर रजिस्टर किया। सर्च के दौरान उसे एक युवक मिला जिसने खुद को NRI DOCTOR बताया। लड़की उससे चैटिंग के बाद इतनी खो गई कि उसे कुछ याद ही नहीं रहा। बदमाश ने 2 किस्तों में उससे 16 लाख रुपए झटक लिए तब कहीं जाकर तंद्रा टूटी। पढ़िए क्या क्या हुआ इस छोटी सी फर्जी लवस्टोरी में: 

स्टेट सायबर पुलिस के एसपी सुदीप गोयनका ने बताया कि जबलपुर निवासी एक युवती ने शिकायत की थी कि मेट्रिमोनियल साइट के माध्यम से खुद को एनआरआई डॉक्टर बताकर एक व्यक्ति ने उसके सामने शादी का प्रस्ताव रखा। कथित डॉक्टर ने युवती से विदेश से भारत आने और कस्टम ड्यूटी के नाम पर 10 लाख रुपए विभिन्न बैंक अकाउंट में जमा करा लिए। इसके बाद ठग ने फिर युवती को फोन कर 6 लाख रुपए और बैंक खातों में जमा कराए। इसके बावजूद वह युवती से मिलने नहीं आया। उल्टे वह और रुपयों की मांग करने लगा। 

जिस पर युवती को उस पर शक हो गया। युवती अपने परिजन के साथ राज्य Cyber Police के पास पहुंची और मामले की शिकायत दर्ज कराई। मामले की जांच के लिए निरीक्षक हरिओम दीक्षित, एसआई श्वेता सिंह की टीम ने सबसे पहले उन बैंकों से संपर्क किया जिनके माध्यम से कथित डॉक्टर के खाते में रुपए ट्रांसफर किए गए थे। पुलिस ने बैंकों के माध्यम से कथित एनआरआई के खातों में डाले गए 6 लाख रुपए का ट्रांजेक्शन रुकवाया।

जांच के दौरान हरियाणा पहुंची पुलिस

पुलिस ने उस मोबाइल नंबर की डिटेल निकाली तो पता चला कि सिम कार्ड यमुना नगर, हरियाणा निवासी सिम रिटेलर प्रदीप कुतार जठलाना ने जारी की थी। जिस पर एक टीम गुरुग्राम पहुंची और प्रदीप को गिरफ्तार कर लिया।

Fake Documents पर कंपनी बनाई, जारी किए सैकड़ों SIM CARD

जांच में पुलिस को यह भी पता चला कि फर्जी दस्तावेज के आधार पर PERFECT STOCK SOLUTION PRIVATE LIMITED बनाकर सैकड़ों सिम कार्ड जारी किए गए हैं। जिस मोबाइल नंबर से कथित NRI युवती से बात करता था, वह सिम भी इसी कंपनी के नाम पर दर्ज है। कंपनी का पता करने टीम गुरुग्राम पहुंची, लेकिन वहां न कंपनी का अस्तित्व मिला न ही युवती को फोन करने वाला एनआरआई। अंत में टीम गुरुग्राम से सिम रिटेलर प्रदीप कुतार जठलाना को गिरफ्तार कर जबलपुर लाई। प्रदीप ने बताया कि फर्जी कंपनियों के नाम पर उसने 1000 से ज्यादा सिमें बेची हैं।