BHOPAL में 2 SI जबरन रिटायर किए, 3 थानेदारों के खिलाफ कार्रवाई: भोपाल गैंगरेप | MP NEWS

09 October 2018

भोपाल। 31 अक्टूबर 2017 में हबीबगंज स्टेशन के पास यूपीएससी की छात्रा से गैंगरेप के मामले में लापरवाही बरतने वाले कर्मचारियों पुलिस विभाग ने कड़ी सजा दी है। जांच में दोषी पाए गए दो सब इंस्पेक्टरों को कम्पलसरी रिटायर्मेंट दिया गया है। इसके अलावा एमपी नगर थाने के तत्कालीन थाना प्रभारी संजय सिंह बैस की एक वेतनवृद्धि में कमी की गई है, वहीं तत्कालीन हबीबगंज थाना प्रभारी रविंद्र यादव की दो वेतनवृद्धि में कमी की गई है। चार मुख्य आरोपियों को अदालत पहले ही उम्र कैद की सजा सुना चुकी है। पुलिस अफसरों ने तत्कालीन जीआरपी थाना प्रभारी मोहित सक्सेना का वेतनमान न्यूनतम किया है। पुलिस विभाग के अफसरों की माने तो दोषी अफसरों को इसलिए कड़ी सजा दी गई है, जिससे बाकी पुलिसकर्मी भी ड्यूटी के दौरान लापरवाही ना बरते।

किसको क्या सजा
- दो सब इंस्पेक्टर टेकाम और उइके को दिया गया कम्पलसरी रिटायरमेंट।
- तत्कालीन टीआई एमपी नगर संजय सिंह बैंस की एक वेतनवृद्धि में की गई कमी।
- तत्कालीन हबीबगंज थाना प्रभारी रविन्द्र यादव की दो वेतनवृद्धि में की गई कमी।
- तत्कालीन जीआरपी टीआई मोहित सक्सेना को लाया गया न्यूनतम वेतन पर।

क्या है घटनाक्रम
- 31 अक्टूबर, दिन मंगलवार को जब पीड़ित छात्रा कोचिंग से निकलकर भोपाल रेलवे स्टेशन जा रही थी। दो युवक छात्रा को पकड़कर रेलवे ट्रैक के ठीक नीचे स्थित पुलिया में ले गए। जहां उनके दो दोस्त और आ गए। चारों ने छात्रा के साथ बारी-बारी से दुष्कर्म किया। 
- 1 नवंबर, घटना के अगले दिन यानी बुधवार सुबह करीब 11 बजे लड़की अपनी मां और पिता के साथ एमपी नगर थाने पर पहुंची। यहां उनकी मुलाकात एसआई आरएन टेकाम से हुई।  
- टेकाम उन्हें लेकर मौके पर पहुंचे और मामला हबीबगंज थाने का बताते हुए वहां जाने की सलाह दे दी। जबकि, वे चाहते तो अपने थाने में शून्य पर मामला दर्ज कर केस डायरी जीआरपी या हबीबगंज पुलिस को भेज सकते थे। 

- तत्कालीन डीआईजी संतोष कुमार सिंह के मुताबिक, इस तरीके को लापरवाही मानते हुए टेकाम को सस्पेंड कर दिया गया। शाम को छह बजे जीआरपी थाने में एफआईआर दर्ज करने की प्रक्रिया शुरू हुई जो देर शाम आठ बजकर 18 मिनट पर लिखी गई। 
जीआरपी पुलिस ने गोलू उर्फ बिहारी, अमर उर्फ छोटू, राजू उर्फ राजेश और राजू उर्फ रमेश को गिरफ्तार किया। 
- 5 नवंबर को  रिपोर्ट दर्ज करने में देरी को लेकर टीआई रवींद्र यादव (हबीबगंज), संजय सिंह बैस (एमपी नगर), मोहित सक्सेना (जीआरपी थाना) और दो एसआई को सस्पेंड किया गया। वहीं, सीएसपी एमपी नगर कुलवंत सिंह को हटाकर पीएचक्यू अटैच किया। 
- गैंगरेप मामले को लेकर मुख्यमंत्री ने डीजीपी समेत आला पुलिस अफसरों की इमरजेंसी मीटिंग बुलाई। एसआईटी का गठन हुआ।
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Popular News This Week