Advertisement

Sc/St-Act के विरोध में बस संचालकों ने भाजपा को बस देने से मना किया | SATNA MP NEWS



भोपाल। एससी-एसटी एक्ट में संशोधन के विरोध का असर भाजपा के ओबीसी सम्मेलन पर पड़ गया है। विधानसभा चुनाव के मद्देनजर और सवर्ण व ओबीसी वर्ग के आंदोलन के बीच सतना में भाजपा ओबीसी वर्ग का बड़ा सम्मेलन कर रही है, लेकिन स्थानीय बस ऑपरेर्ट्स ने इसके लिए बसें देने से इनकार कर दिया है। इतना ही नहीं बस ऑपरेटर्स ने आरोप लगाया है कि किसी एक वर्ग के लिए सम्मेलन करना सही नहीं है।

बस ऑनर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष कमलेश गौतम ने यहां तक कहा कि यदि कार्यक्रम जनता का होता तो हम बसें जरूर देते। इस बीच सतना सांसद व भाजपा के वरिष्ठ नेता गणेश सिंह पटेल ने साफ कर दिया है कि एक सप्ताह पहले एक बार कार्यक्रम टल चुका है, लेकिन अबकी बार यह जरूर होगा। यह सम्मान की बात हो गई है। लोग पैदल, मोटर साइकिल, ट्रेन या ट्रैक्टर से आएं, कार्यक्रम जरूर होगा।

इस बीच बताया जा रहा है कि बस ऑपरेटर्स से 400 बसें मांगी गई हैं। सतना में भाजपा नेता सुरेंद्र गहरवार व जुगल किशोर बागरी के बेटे बसों का संचालन करते हैं। इसके लिए शिवा चतुर्वेदी की भी बसें हैं। ये सभी भाजपा नेता बस ऑनर्स एसोसिएशन समिति के साथ हैं।

समिति ने तय किया है कि 18 सितंबर को सम्मेलन है, इसलिए 17 को बसों का संचालन बंद रखा जाएगा ताकि बसों का अधिग्रहण न हो सके। इधर, बस ऑपरेटर्स के विरोध की जानकारी भाजपा प्रदेश संगठन तक पहुंच गई है। यहां से भी क्राइसिस कंट्रोल करने की कोशिशें की जा रही हैं।

जिन भाजपाइयों की बसें हैं, उनसे बात करेगी भाजपा
सांसद गणेश सिंह ने कहा है कि बसों का संचालन कुछ भाजपाई भी कर रहे हैं। वे ऑनर्स एसोसिएशन के साथ हैं। उनसे बात की जा रही है। यह विरोध अब सम्मान की लड़ाई है, क्योंकि कांग्रेस के लोग ही इस विरोध के पीछे हैं। कार्यक्रम 18 सितंबर को ही होगा। चाहे लोग कैसे भी आएं। सम्मेलन तो विशाल ही होगा।

बसें ले लेते हैं, लेकिन पैसे ही नहीं देते
एसोसिएशन के अध्यक्ष ने कहा कि प्रशासन बसों का अधिग्रहण तो कर लेता है, लेकिन पूरा पैसा नहीं देता। मई 2016 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अमरकंटक में कार्यक्रम के दौरान भी बसें ली गई थीं, लेकिन पूरा पैसा नहीं मिला। पेट्रोल-डीजल के रेट भी बढ़ गए हैं। रोड की हालत खराब है। एक घंटे के सफर में तीन घंटे लग रहे हैं। ऊपर से भाजपा एक वर्ग का सम्मेलन कर रही है, जो गलत है।
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com