मोहन भागवत ने संघ/बीजेपी विरोधियों को कुत्ता कहा: आंबेडकर | National News

09 September 2018

नई दिल्ली। आरएसएस के सरसंघचालक मोहन भागवत ने अमेरिका के शिकागो आयोजित में विश्व हिंदू कांग्रेस में अपने भाषण के दौरान 'शेर और कुत्तों' वाला बयान भी दिया। उन्होंने कहा कि ‘अगर शेर अकेला है तो जंगली कुत्ते उस पर हमला कर उसे मार डालेंगे।’ अब देश भर के तमाम वो लोग जो आरएसएस या भाजपा का विरोध करते हैं, जबर्दस्त आपत्ति जता रहे हैं। उनका कहना है कि भागवत ने संघ विरोधियों को कुत्ता कहा है। 

आरएसएस के सरसंघचालक मोहन भागवत ने कहा कि हिंदू समाज में मेधावियों की संख्या सबसे ज्यादा है, लेकिन वे कभी साथ नहीं आते। शुरुआत से ही हिंदुओं को मिलाकर रखना मुश्किल काम रहा है। हिंदू समुदाय को एकजुट होकर मानव कल्याण के लिए काम करना चाहिए। भागवत ने कहा कि हिंदू किसी का विरोध करने के लिए नहीं जीते। हालांकि, कुछ लोग हिंदुओं का विरोध कर सकते हैं। हिंदुओं को खुद को तैयार करना होगा, ताकि विरोध करने वाले नुकसान नहीं पहुंचा पाएं। हमें जीवन के हर पहलू में मजबूत होना चाहिए।

उन्होंने कहा, ‘हिंदुओं को मिलाकर रखना कठिन काम है। शेर कभी समूह में नहीं चलता, लेकिन वह शेर हो या बंगाल टाइगर, जब वह अकेले चल रहा है तो जंगली कुत्ते एकसाथ आक्रमण कर उसे खत्म कर सकते हैं।’ संघ प्रमुख ने आगे कहा कि लोगों पर हुकूमत करने की हमारी इच्छा नहीं है। हमारा प्रभाव विजय या उपनिवेशवाद का नतीजा नहीं है। हम दुनिया को बेहतर बनाना चाहते हैं। मैं भी आधुनिकता का विरोधी नहीं हूं, बल्कि बेहतर भविष्य का समर्थक हूं। 

भड़के आंबेडकर, बोले विपक्षी दलों को कुत्ता कहा है
संघ प्रमुख मोहन भागवत के ‘शेर और कुत्तों’ वाले बयान पर विवाद खड़ा हो गया है। भारत रत्न डॉ. भीमराव आंबेडकर के पौत्र और पूर्व सांसद प्रकाश आंबेडकर ने भागवत के बयान की आलोचना की है। शिकागो में चल रहे विश्व हिंदू सम्मेलन में भागवत ने कहा था, ‘अगर शेर अकेला है तो जंगली कुत्ते उस पर हमला कर उसे मार डालेंगे।’ भागवत के बयान पर शनिवार को भारिप बहुजन महासंघ के नेता आंबेडकर ने कहा, ‘दरअसल, संघ प्रमुख ने ‘कुत्ते’ शब्द का इस्तेमाल देश की विपक्षी पार्टियों के लिए किया था। मैं भागवत की इस मानसिकता की निंदा करता हूं। राजनीतिक दलों का सत्ता में आना-जाना लगा रहता है, लेकिन विपक्षी पार्टियों की कुत्तों से तुलना करना ठीक नहीं।’ 
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

mgid

Loading...

Popular News This Week

Revcontent

Popular Posts