अजय सिंह के विंध्य में फिर गूंजा कमल-सिंधिया का नाम | MP ELECTION NEWS

27 September 2018

भोपाल। कांग्रेस में विंध्य का इलाका नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह की जागीर माना जाता है। कहते हैं कि अजय सिंह कतई पसंद नहीं करते कि मध्यप्रदेश के किसी दूसरे कांग्रेस नेता का नाम उनसे ऊपर लिया या लिखा जाए। अजय सिंह चुरहट के राजा अर्जुन सिंह के बेटे हैं। अत: अपने क्षेत्र में धमक बनाए रखना स्वभाविक है। पिछले दिनों कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया ने कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया का नाम ले लिया तो बवाल मच गया था। आज कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया का नाम ले डाला। 

विंध्य की राजनीति​ में नया मोड़
राहुल गांधी ने अपने भाषण के दौरान कहा कि कमलनाथ प्रदेश में कमल का नाश करने आए हैं। कमलनाथ के अनुभव और ज्योतिरादित्य के युवा जोश का फायदा मध्य प्रदेश की जनता को मिलेगा। यह बयान अजय सिंह के राजनीतिक करियर में नया मोड़ हो सकता है। क्या राहुल गांधी ने संकेत दे दिया है कि मध्यप्रदेश में यदि कांग्रेस सत्ता में आई तो कमलनाथ और सिंधिया की ही भागीदारी होगी। 

अजय सिंह भी थे सीएम सीट के दावेदार
नेता प्र​तिपक्ष होने के नाते अजय सिंह खुद को कांग्रेस की ओर से सीएम पद का प्रमुख दावेदार मानते हैं। विंध्य क्षेत्र में कई दीवारों पर बड़े बड़े अक्षरों में उनकी मंशा का उल्लेख भी दिखाई देता है। अजय सिंह समर्थक लगातार दावे करते हैं कि कांग्रेस की सरकार बनी तो सीएम अजय सिंह ही होंगे। 

दिग्विजय ​का दम, राहुल गांधी ने कर दिया कम
अजय सिंह को कांग्रेस के सबसे ताकतवर नेता दिग्विजय सिंह का स्नेह प्राप्त है। अजय सिंह के पिता अर्जुन सिंह ने ही राजीव गांधी के ना चाहते हुए भी माधवराव सिंधिया की जगह मोतीलाल वोरा को मुख्यमंत्री बनाया। राजीव गांधी ने नाराज होकर श्यामाचरण शुक्ला को सीएम बनाया तो उनकी मृत्यु के बाद अर्जुन सिंह ने माधवराव सिंधिया की जगह दिग्विजय सिंह को मुख्यमंत्री बनाया था। अब उम्मीद की जा रही है कि दिग्विजय सिंह वह ऋण चुकाएंगे और कांग्रेस को सत्ता में लाकर अजय सिंह को सीएम बनाएंगे। 

दीपक बावरिया पर हावी हो गए थे
आपको याद ही होगा। प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया ने विंध्य क्षेत्र में जाकर कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया का नाम ले लिया था। उसके बाद अजय सिंह समर्थक उन पर हावी हो गए थे। बावरिया की सुरक्षा खतरे में थी। यदि वो चतुराई से काम ना लेते तो अप्रिय स्थिति बन सकती थी। इस घटना को लेकर काफी बवाल भी हुआ था और राहुल गांधी ने सभी को दिल्ली तलब कर लिया था। 
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Popular News This Week

 
-->