जिन्होंने माधवराव को कभी CM नहीं बनने दिया, क्या वो ज्योतिरादित्य को आगे आने देंगे

Saturday, September 30, 2017

उपदेश अवस्थी/भोपाल। पिछले दिनों कमलनाथ ने एक बड़ा बयान दिया। उन्होंने ज्योतिरादित्य सिंधिया को एनओसी दे दी। एक तरह से माना जाए तो सबकुछ साफ हो गया है। अगला चुनाव सिंधिया के नेतृत्व में लड़ा जाएगा परंतु यह इतना आसान भी नहीं है। इतिहास बताता है कि मप्र में कांग्रेस का एक कुनबा ऐसा है जिसने आज तक सिंधिया परिवार के लोगों को कभी प्रमुख पदों पर आने ही नहीं दिया। पहले इस कुनबे के नेता अर्जुन सिंह हुआ करते थे आज कल यह कमान उनके चेले दिग्विजय सिंह संभाल रहे हैं। यूं तो वो 6 माह तक धार्मिक यात्रा पर हैं परंतु जिस देश में भगवाधारी सन्यासी राजनीति करते हों, वहां एक राजनेता सन्यास कैसे ले सकता है। कहीं यह यात्रा किसी नए मोतीलाल वोरा के लिए जमीन की तैयारी तो नहीं है। 

1989 में चुरहट कांड के चलते अर्जुन सिंह पर इस्तीफे का दबाव बढ़ा तो राजीव गांधी चाहते थे कि तत्कालीन रेलमंत्री माधवराव सिंधिया को मध्यप्रदेश की कमान सौंप दी जाए लेकिन अर्जुन सिंह, सिंधिया के लिए अपनी कुर्सी छोड़ने को तैयार नहीं थे। इधर माधवराव सिंधिया भोपाल आ गए। उन्हे बताया गया था कि उनके नाम का ऐलान होने वाला है। वो इंतजार कर रहे थे कि तभी अर्जुन सिंह ने एक चाल चली और मोतीलाल वोरा के नाम का ऐलान हो गया। इस चालबाजी से राजीव गांधी इस कदर नाराज हुए कि उन्होंने अर्जुन सिंह के खिलाफ श्यामाचरण शुक्ला को कांग्रेस में वापस बुलाया और शक्तिशाली बना दिया। वोरा के बाद शुक्ला सीएम बनाए गए। अर्जुन सिंह को मप्र की राजनीति से बाहर कर दिया गया। उस प्रसंग का असर यह है कि आज भी अर्जुन सिंह के बेटे अजय सिंह का गांधी परिवार में कोई खास सम्मान नहीं है। 

अर्जुन सिंह ने अपनी चालें चलना बंद नहीं किया। वो दिल्ली से बैठकर दिग्विजय सिंह को आगे बढ़ाने लगे। 1993 में एक बार फिर वही समय लौटकर आया और माधवराव सिंधिया का नाम सीएम के लिए फाइनल किया गया। लास्ट मिनट में फिर से एक रणनीति पर काम हुआ और दिग्विजय सिंह को मप्र का मुख्यमंत्री बना दिया गया। दिग्विजय सिंह और माधवराव सिंधिया के बीच राजनैतिक प्रतिस्पधा से कहीं आगे व्यक्तिगत दुश्मनी के भाव थे। हाईकमान का पूरा सपोर्ट होने के बावजूद दिग्विजय सिंह ने जब जब मौका मिला माधवराव सिंधिया का नुक्सान किया और बार बार उन्हे अपमानित किया। 

अब ऐसा ही कुछ एक बार फिर होने जा रहा है। माधवराव सिंधिया के वारिस एवं सिंधिया राजवंश के महाराज ज्योतिरादित्य सिंधिया का नाम सीएम कैंडिडेटशिप के लिए फाइनल होता नजर आ रहा है। कमलनाथ ने भी अपनी एनओसी दे दी है परंतु सवाल यह है कि क्या अर्जुन सिंह के चेले दिग्विजय सिंह शांत रहेंगे। क्या वो एन वक्त पर ऐसी कोई चाल नहीं चलेंगे जो अचानक फैसला बदल दे। 

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

mgid

Loading...

Popular News This Week