Advertisement

सड़क किसी ने भी बनाई हो, मरम्मत की जिम्मेदारी नगरपालिका निगम की | MP NEWS



भोपाल। नगरीय प्रशासन विभाग ने निर्देशित किया है कि सड़क चाहे पीडब्ल्यूडी, सीपीए या किसी भी अन्य एजेंसी की हो लेकिन गड्ढे भरने की जिम्मेदारी नगर निगम की होगी। यह निगम की जिम्मेदारी होगी कि वह इन एजेंसियों से सड़कें दुरुस्त कराए। यदि किसी वजह से देरी होगी तो निगम अपने स्तर पर काम करेगा बाद में संबंधित एजेंसी इसकी भरपाई करेगी। नगरीय प्रशासन विभाग ने सभी एजेंसियों को निर्देश दिए हैं कि वे दस दिन के भीतर सड़कों के गड्ढे भर कर निगम को सूचित करें। साथ ही बरसात के बाद सड़कों के रखरखाव का अपने प्लान और उपलब्ध बजट की जानकारी भी निगम को दें। 

इन सड़कों पर कोल्ड इमर्सन पद्धति से पेंचवर्क होगा। इसकी शुरुआत ज्योति टॉकीज चौराहा से होगी। एक-दो दिन में नगर निगम यहां गड्ढे भरने का काम करेगा। राजधानी में लंबे समय से सड़कों के रखरखाव के लिए एक एजेंसी तय करने की बात चल रही है। अब तक इस पर कोई अंतिम निर्णय नहीं हो सका। लेकिन नगरीय प्रशासन विभाग ने अब यह स्पष्ट कर दिया है कि सड़कें चाहे जो एजेंसी बनाए उसके मेंटेनेंस की जिम्मेदारी नगर निगम की होगी। निगमायुक्त इन एजेंसियों के साथ समन्वय करेंगे। ऐसे में इन एजेंसियों के लिए यह जरूरी हो गया है कि वे अपनी सड़कों की हालत और उनके रखरखाव के लिए उपलब्ध बजट की जानकारी नगर निगम को दें। विभाग के प्रमुख अभियंता पीके कटारे ने सभी एजेंसियों को निर्देश दिए हैं कि वे सड़कों से संबंधित जानकारी उपलब्ध कराएं ताकि निगम बरसात के बाद सड़कों के पेचवर्क का प्लान बना सके। 

पहले भी लिखा था पत्र....
पिछले साल भी नगरीय प्रशासन विभाग ने एजेंसियों को पत्र लिखकर अपनी सड़कें निगम को सौंपने को कहा था। इस पर पीडब्ल्यूडी ने तो तैयारी पूरी कर ली थी लेकिन सीपीए राजी नहीं हुआ था। गौरतलब है कि विभाग के प्रमुख सचिव विवेक अग्रवाल ने इस पर दोबारा कार्रवाई करने के निर्देश दिए। इस पर कटारे ने पिछले दिनों सभी एजेंसियों की संयुक्त बैठक बुलाई थी। 
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com