उद्योगपतियों के साथ से दाग नहीं लगता: पीएम नरेंद्र मोदी | NATIONAL NEWS

29 July 2018

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यूपी के लिए 60 हजार करोड़ की विकास व निवेश परियोजनाओं की नींव रखते हुए कहा कि नीयत साफ हो तो बड़े से बड़ा विकास हो सकता है। देश की तरक्की में उद्योगपतियों के योगदान की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि उनको चोर-लुटेरा कहना या अपमानित करना पूरी तरह गलत है। अगर इरादे नेक और ईमानदार हों तो किसी के साथ खड़े होने से कोई दाग नहीं लगता।

प्रधानमंत्री ने यह बात रविवार को लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में हुए 81 निवेश परियोजनाओं के शिलान्यास समारोह (ग्राउंड ब्रेकिंग सेरमनी) में कही। भारी निवेश से उत्साहित प्रधानमंत्री ने कहा कि यह ग्राउंड ब्रेकिंग सेरमनी नहीं रिकार्ड ब्रेकिंग सेरमनी बन गई है। पांच महीने में इतना निवेश, सचमुच अकल्पनीय है और यूपी के लिए बहुत बड़ी उपलब्धि है।

पर्दे के पीछे मुलाकातें और सामने विरोध 
नरेंद्र मोदी ने शनिवार की तरह रविवार को भी कांग्रेस को निशाने पर रखा। कांग्रेस के आरोपों का जवाब देते हुए कहा कि उद्योगपतियों के साथ का विरोध करने वाले पर्दे के पीछे तो उनसे खूब मुलाकात करते हैं और सामने आकर उनका ही विरोध करते हैं। उद्योगपतियों का साथ जरूरी है लेकिन जो गलत करेगा उसे या तो देश से भागना पड़ेगा या फिर जेल में जीवन बिताना पड़ेगा। यह सबको मालूम है कौन लोग किसके हवाई जहाज से घूमते रहे। यही इन्हीं उद्योगपतियों को चोर कहते हैं।

मोदी यही नहीं रुके। बोले- हम उनमें से नहीं है की उद्योगपति के साथ ना खड़े हों, कई लोगों की एक भी फ़ोटो इनके साथ नहीं होगी। मोदी ने महात्मा गांधी का उदाहरण देते हुए कहा कि उनका जीवन जितना पवित्र था, उनको बिड़ला के परिवार में जाकर रहने में कभी संकोच नहीं हुआ क्योंकि उनकी नीयत साफ थी।

अभी मुझे बहुत तेज गति से दौड़ना है
पीएम ने कहा कि प्रगति की दौड़ में अभी ये शुरुआत है, अभी मुझे बहुत तेज़ गति से दौड़ना है। वह एक ऐसी व्यवस्था खड़ी करना चाहते हैं जहां किसी प्रकार के भेदभाव की गुंजाइश ना हो, प्रक्रियाओं में रफ्तार भी दिखे और संवेदनशीलता भी, ना अपना, ना पराया, ना छोटा, ना बड़ा, सबके साथ समान व्यवहार, यानि कुल मिलाकर सबका साथ, सबका विकास।

देश को बनाने में उद्योगपतियों की भी भूमिका है
अगर हिन्दुस्तान को बनाने में एक किसान, एक कारीगर, एक बैंकर फाइनेंसर, सरकारी मुलाजिम, मजदूर की मेहनत काम करती है तो इसमें देश के उद्योगपतियों की भी भूमिका होती है... हम उनको अपमानित करेंगे, चोर लुटेरा कहेंगे... ये कौन सा तरीका है। पहले यह नहीं होता था क्योंकि परदे के पीछे बहुत कुछ होता था।
देश में कोई भी ऐसा उद्योगपति नहीं होगा जो पहले की सरकार के सामने जाकर दंडवत ना होता हो। सामने बैठे अमर सिंह को देखते हुए कहा कि अमर सिंह यहां बैठे हुए हैं। वह सारी हिस्ट्री निकाल देंगे। 
पिछली सरकारों के पास इच्छाशक्ति नहीं थी और उनके इरादे स्पष्ट नहीं थे। देश अभी जिन समस्याओं का सामना कर रहा है, वह पिछले 70 वर्षों के शासन का परिणाम है। 
 जो लोग मोदी की आलोचना के लिए चीज़ें ढूंढ रहे हैं वो लिखकर रख लें जो भी चीज़ें मिलेगी वो पिछले सत्तर साल की सरकारों के कार्यकाल में मिलेंगी। चार साल में नहीं। मुझे चार साल मिले हैं तो दूसरों को सत्तर साल मिले थे।

60 हजार करोड रुपये को कम ना समझें 

पीएम ने कहा कि प्रदेश के औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना बहुत संकोच से कह रहे थे कि 60 हजार करोड़ रुपये का निवेश हुआ है। अरे, इतने कम समय में प्रक्रिया को सरल कर इतना बड़ा निवेश बड़ी बात है। मैं भी बहुत लंबे अरसे तक मुख्यमंत्री रहा हूं मुझे पता है। कैसी-कैसी मुश्किलें निवेश लाने में आती हैं।  यह निवेश कम नहीं है । मोदी ने कहा कि देश या तो प्रधानमंत्री चला पता है, या पटवारी चलाता है, सीएम से लेकर पटवारी तक के सहयोग से 60 हज़ार करोड़ की योजनाओं का काम हो पाया है।
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Advertisement

Popular News This Week