Advertisement

मोदजी ने इशारा दिया, कायको उठो; तुम्हारे पिताजी ने बैठाया हैं क्या: शिक्षामंत्री | MP ELECTION NEWS



भोपाल। मध्यप्रदेश के भाग्य में अक्सर विवादित शिक्षामंत्री आते रहे हैं। शासन कांग्रेस का हो या भाजपा का, लेकिन ज्यादातर शिक्षामंत्रियों की योग्यता पर ही सवाल उठते रहे हैं। पिछले शिक्षामंत्री पारस जैन बुद्धि से ज्यादा बाहुबल को प्राथमिकता देते थे। पहलवानी का शौक था। अधिकारियों को सस्पेंड करने का आदेश टाइप करवाते और फिर वाट्सएप पर वायरल कर देते। जावक से पहले ही काम हो जाता था। इन दिनों विजय शाह गजब ढा रहे हैं। सीएम शिवराज सिंह के लिए द्विअर्थी बयान देने वाले शाह ने इस बार राहुल गांधी की संसद में मोदी को झप्पी के घटनाक्रम की एकदम नई कहानी सुना डाली। 

शिक्षामंत्री विजय शाह जिले में सरकार के 34 करोड़ के विभिन्न मार्गों के भूमिपूजन को लेकर एक कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए थे। मंडी प्रागण में आयोजित हुई इस सभा में उन्होंने विवादित बयान दिया जिसका वीडियो वायरल हो गया। वह मंच से यह कहते हुए नजर आ रहे हैं ” राहुल भैया.. पप्पू….भाषण करते करते बिच में उठे और प्रधानमंत्री की कुर्सी पर चले गए और बोले उठो उठो, प्रधानमंत्री ने इशारा दिया कायको उठो तुम्हारे पिताजी ने बैठाया हैं क्या ? नहीं उठे… और नहीं उठे तो जबरजस्ती गले पड़ गए। बताओ पड़े की नहीं पड़े ? पड़ गए जबरजस्ती गले पड़ गए। जबरजस्ती बाहो में भर लिया। उसके बाद कुर्सी पर आए आंख मरे वो एक वीडियो वायरल हुआ किसी हीरोइन ने ऐसा किया था।

कांग्रेस ने जताई आपत्ति
भोपाल। प्रदेश कांग्रेस मीडिया प्रभारी मानक अग्रवाल ने स्कूल शिक्षा मंत्री विजय शाह पर असंसदीय भाषा का प्रयोग करने का आरोप लगाया है। राहुल गांधी के संसद में दिये गये भाषण के संदर्भ में शाह ने कहा था कि आपके पिताजी ने मोदी जी को यहां नहीं बैठाया है। राहुल गांधी तो मोदी जी के गले पड़ गये। श्री अग्रवाल ने कहा कि राहुल गांधी, मोदी से उम्र में बहुत छोटे हैं। वे अपना भाषण समाप्त कर सद्भावना स्वरूप औपचारिकता के नाते मोदी जी की सीट तक उनका अभिवादन करने गये थे। ये अलग बात है कि श्री मोदी ने बड़प्पन न दिखाते हुए राहुल जी की तारीफ करना तो दूर खड़े होकर उनसे गले मिलना भी उचित नहीं समझा। उल्टा भाजपा के लोग मुहावरे का गलत प्रयोग करते हुए ‘गले पड़ गये’ कहने लगे। जब मोदी जी अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प से भारतीय परम्परा के अनुरूप गले मिले थे तो क्या वे उनके ‘गले पड़ गये’ थे?
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com