दिल्ली की सरकार सामान्य नहीं हो रही | EDITORIAL by Rakesh Dubey

10 July 2018

दिल्ली सरकार ने उपराज्यपाल की सलाह को उलटते हुए मुख्यमंत्री तीर्थ योजना लागू कर दी है।मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि इस योजना को लेकर जो आपत्तियां थीं उनको खारिज करते हुए उन्होंने इसको मंज़ूरी दे दी। सरकार की इस योजना पर उपराज्यपाल ने सुझाव दिया था कि सरकार द्वारा मुफ्त तीर्थ यात्रा केवल गरीब लोगों के लिए होनी चाहिए लेकिन सीएम ने अब सभी आपत्तियों और सुझावों को खारिज करके मंज़ूरी दे दी है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद भी दिल्ली सरकार और उप राज्यपाल के बीच अधिकारों की लड़ाई खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। दोनों के बीच अभी भी टकराव की स्थिति बनी हुई है। दिल्ली के शासन संचालन के तौर-तरीकों पर उपजे मतभेद दूर नहीं हो सके उससे तो यही लगता है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले को सही तरीके से समझने से इन्कार किया गया। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में दोनों पक्षों को नसीहत दी थी और दोनों को ही उनकी सीमाएं भी बताई थीं, लेकिन पता नहीं कैसे और क्यों इस फैसले के आधार पर यह निष्कर्ष निकाल लिया गया कि उप राज्यपाल के पर कतरे गए और इस तरह दिल्ली सरकार की जीत हुई?

सुप्रीम कोर्ट का फैसला आते ही दिल्ली सरकार उसे अपने हिसाब से लागू करने में जुटी और इस क्रम में वह सबसे पहले अधिकारियों की नियुक्ति-तबादले करने की दिशा में आगे बढ़ी, लेकिन उसका सामना इस तथ्य से हुआ कि ऐसा करना तो उप राज्यपाल का अधिकार है और यह अधिकार गृह मंत्रलय की 2015 की जिस अधिसूचना से मिला है उसे सुप्रीम कोर्ट ने रदद नहीं किया है। कहना कठिन है कि शीर्ष अदालत दिल्ली सरकार और उप राज्यपाल के बीच वह सामंजस्य पैदा कर सकती है जो दिल्ली के शासन को सुगमता से चलाने के लिए आवश्यक है।

उप राज्यपाल से मुलाकात के बाद अपनी प्रवृत्ति के अनुरूप मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्र सरकार पर तोहमत मढ़ने में देर नहीं की। उनके मुताबिक केंद्र सरकार सुप्रीम कोर्ट के फैसले को मानने से इन्कार कर रही है और अगर वह ऐसा करेगी तो फिर देश में अराजकता फैल जाएगी। उन्होंने यह रेखांकित करने में भी कोई कसर नहीं छोड़ी कि केंद्र सरकार का एक मात्र लक्ष्य दिल्ली सरकार को परेशान करना है। देश की राजधानी होने के नाते दिल्ली सरकार वह सब कुछ नहीं कर सकती जो करने का अधिकार अन्य राज्यों की सरकारों को है। यह तीर्थ योजना भी अन्य राज्य सरकारों की नकल है। मुश्किल यह है कि आम आदमी पार्टी अपनी सरकार को अन्य राज्यों से कमतर मानने को तैयार नहीं। सीमित अधिकारों के साथ अन्य नेता दिल्ली में बिना किसी झगड़े-झंझट के सरकार चला चुके हैं। वर्तमान दिल्ली सरकार के कदम उसकी जिद के कारण कितने लोकप्रिय होंगे यह समय बतायेगा।
देश और मध्यप्रदेश की बड़ी खबरें MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com
श्री राकेश दुबे वरिष्ठ पत्रकार एवं स्तंभकार हैं।
संपर्क  9425022703        
rakeshdubeyrsa@gmail.com
पूर्व में प्रकाशित लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए
आप हमें ट्विटर और फ़ेसबुक पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

mgid

Loading...

Popular News This Week

Revcontent

Popular Posts