Loading...

मुझे 3 दिन तक जानवरों की तरह नोंचा गया: दाती महाराज पीड़िता का बयान

नई दिल्ली। दाती महाराज के खिलाफ दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली 25 वर्षीय पीड़िता ने मंगलवार को कोर्ट में 164 के तहत अपना बयान दर्ज कराया। उसने बताया कि किस तरह उसे बताया गया कि उसके पहले भी ऐसा होता रहा है और बाद में भी होता रहेगा। उसने कोर्ट को बताया कि आज मैं उसके (दाती) खिलाफ शिकायत कर रही हूं। इसके बाद पता नहीं मैं जिंदा रहूंगी या नहीं। बताया जा रहा है कि दाती महाराज भूमिगत हो गया है जबकि पुलिस का कहना है कि फिलहाल हम गिरफ्तारी के लिए छापामारी नहीं कर रहे हैं। उन्हे नोटिस देकर पूछताछ की जाएगी, घटना की पुष्टि होने के बाद ही गिरफ्तारी होगी। 

3 दिन तक बाबा और सहयोगी जानवरों की तरह नोंचते रहे

पीड़िता ने बताया कि 9 फरवरी 2016 को दाती की सेवादार श्रद्धा मुझे असोला स्थित शनि धाम आश्रम में चरण सेवा के लिए दाती के पास ले गई। मुझे अंधेरे गुफानुमा कमरे में सफेद रंग के कपड़े पहनाकर भेजा गया। वहां दाती ने कहा, मैं तुम्हारा प्रभू हूं, क्यों इधर-उधर भटकना। मैं सब वासना खत्म कर दूंगा। इसके बाद दाती और उसके सहयोगियों ने मेरे साथ बारी-बारी से दुष्कर्म किया। इसके बाद मार्च 2016 में राजस्थान स्थित गुरुकुल पाली जिले में भी यही कहानी दोहराई गई। मुझे 3 दिन तक जानवरों की तरह नोंचा गया। दाती के सहयोगी अनिल ने भी मेरे साथ दुष्कर्म किया।

कल हमारी बारी थी, आज तुम्हारी बारी है

पीड़िता ने बताया, श्रद्धा उससे कहती थी कि ऐसा करने से तुम्हें मोक्ष प्राप्त होगा। यह भी सेवा है। तुम बाबा की हो और बाबा तुम्हारे। तुम कोई नया काम नहीं कर रही हो, सब करते आए हैं। कल हमारी बारी थी, आज तुम्हारी बारी है। कल न जाने किसकी बारी होगी। बाबा समंदर हैं और हम सब मछलियां हैं। इसे कर्ज समझकर चुका लो।

सुरक्षा न मिली तो पूरा परिवार जिंदा नहीं बचेगा

पीड़िता का कहना है कि दाती बहुत खतरनाक आदमी है। उसे फांसी की सजा होनी चाहिए। मुझे और परिवार को सुरक्षा दी जाए, अगर सुरक्षा नहीं मिली तो मैं और मेरा पूरा परिवार जिंदा नहीं बचेगा, यह एकदम तय है। पुलिस ने आरोपी दाती के साथ उसके सहयोगी श्रद्धा, अशोक, अर्जुन, नीमा जोशी को भी नामजद किया है।

पुलिस बोली- नोटिस देकर पूछताछ के लिए बुलाएंगे

इस हाईप्रोफाइल केस की तफ्तीश साउथ जिला पुलिस से क्राइम ब्रांच को ट्रांसफर कर दी गई है। इस मामले में साउथ ईस्टर्न रेंज के संयुक्त पुलिस आयुक्त देवेश श्रीवास्तव ने बताया आरोपी की तलाश में कहीं पर भी दबिश नहीं डाली जा रही है। उन्हें नोटिस देकर पूछताछ में शामिल कराया जाएगा।
देश और मध्यप्रदेश की बड़ी खबरें MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com