Loading...

होशंगाबाद: डंपरों के साथ 1 व्यक्ति जिंदा जल गया, इलाके में भारी तनाव

भोपाल। खबर आ रही है कि बुधवार रात को होशंगाबाद जिले के गुजरवाड़ा गांव में चलाए गए 18 डंपरों के पास सुबह एक व्यक्ति की जली हुई लाश भी मिली है। बताया जा रहा है कि यह व्यक्ति भी डंपरों के साथ जिंदा जल गया परंतु उसकी अभी तक पहचान नहीं हो पाई है। ग्रामीणों ने रात 11 बजे से 1 बजे तक 18 डंपर फूंक डाले। पुलिस की टीम को दौड़ाया और डंपरों को बुझाने आई दमकल को भी भगा दिया। अलसुबह जिले भर की पुलिस ने एक साथ गांव पर छापामार हमले की तरह कार्रवाई की। वज्र बाहन के साथ अब गांव की हर गली में पुलिस तैनात है। पूरे इलाके में तनाव पसरा हुआ है। 

मामला तवा नदी से किए जा रहे अवैध रेत उत्खनन का है। गुजरवाड़ा गांव में पूर्व सरपंच देवनारायण यादव के भतीजे कृष्णकुमार यादव (28) को रात करीब 10:30 बजे रेत के भरे डंपर ने कुचल दिया। मौके पर ही उसकी मौत हो गई। गुस्साई भीड़ ने देर रात 1:00 बजे तक आने वाले सभी डंपरों को जला डाला। कुल 18 डंपर और ट्रक रोककर जलाए गए। डंपराें के पास जली हुई अवस्था में एक शव भी मिला, जिसकी शिनाख्त नहीं हो सकी। 

पुलिस को दौड़ाया, दमकल को भी भगाया

पुलिस स्थिति को संभालने पहुंची तो भीड़ ने उसके वाहन में तोड़फोड़ कर आग लगा दी। पथराव किया ताे बाबई टीआई राजेंद्र बर्मन सहयोगी पुलिसकर्मियों के साथ जान बचाकर भागे। आग बुझाने गई दमकल में तोड़फोड़ कर दी। दमकलकर्मियों को भी वहां से भागना पड़ा। बाद में भारी बल के साथ पुलिस मौके पर पहुंची। 

घबराई पुलिस पहले बावई में एकजुट हुई फिर छापामार हमले की तरह गांव में घुसी

एसपी अरविंद सक्सेना ने बताया कि आक्रोशित लोगों ने मौके पर ही वहां से गुजर रहे रेत के वाहनों को रोककर उनमें आग लगाना शुरू कर दिया। भीड़ ने गांव में दमकल को भी जलाने की कोशिश की। बाद में पुलिस के साथ दूसरी दमकल पहुंची। भारी पुलिस बल ने पहुंचकर गांव में तनाव नियंत्रित करने की कोशिश की। रात में हुए घटनाक्रम को कंट्रोल करने के लिए पुलिस को भारी मशक्कत करना पड़ा। पुलिस की दर्जनों गाड़ियां हूटर बजाकर रात में बज्र वाहन के साथ गांव पहुंची। इस दौरान दमकलों को भी बुलाया गया। हालत को देखते हुए पुलिस पहले बाबई के पास ही एकत्रित हुई और बाद में वज्र वाहन के साथ गांव पहुंची। बाबई के टीआई बर्मन अपने कुछ साथियों के साथ मौके पर गए, लेकिन ग्रामीणों के आक्रोश के बाद उन्हें वहां से अपनी गाड़ी छोड़कर 100 डायल में वापस आना पड़ा। यहां आकर उन्होंने अपने वरिष्ठ अधिकारियों को सूचना दी।

रातभर होता है खनन, चलते हैं डंपर और ट्रक

तवा नदी की गूजरवाड़ा और रजौन खदानों से रात भर खनन और परिवहन होता है। आए दिन हादसे हो जाते हैं लेकिन बुधवार की रात को डंपर ने गांव के पूर्व सरपंच के बेटे को कुचल दिया तो भीड़ आक्रोशित हो गई। हालत काबू में करने के लिए पुलिस को सख्ती करनी पड़ी। रात 12 बजे दंगा नियंत्रण वाहन का भी सहारा लिया।
देश और मध्यप्रदेश की बड़ी खबरें MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com