सर्वे रिपोर्ट के नाम पर विधायकों के टिकट काट युवराजों को देने की तैयारी

29 June 2018

भोपाल। भाजपा में इन दिनों टिकट की खुली मारामारी दिखाई दे रही है। हर तीन महीने में भाजपा और आरएसएस सर्वे कर रहे हैं और सर्वे रिपोर्ट के नाम पर मौजूदा विधायकों को डराने का खेल जारी है। सवाल यह है कि हर महीने एक नए सर्वे से क्या हासिल होने वाला है। क्यों विधायकों पर इस तरह का तनाव डाला जा रहा है। कहीं ऐसा तो नहीं कि यह दिग्गजों की एक रणनीति है, सर्वे के नाम पर मौजूदा विधायक का टिकट कट करें और फिर अपने युवराजों या रिश्तेदारों को सौंप दें। याद रखना चाहिए कि इस बार करीब 2 दर्जन से ज्यादा युवराज विधानसभा चुनाव की तैयारी कर रहे हैं। पिता चाहते हैं कि उनके साथ उनके बेटे को भी टिकट दिया जाए। वो जीत की गारंटी भी दे रहे हैं। 

नाम गिनाने की फिलहाल जरूरत नही। मुद्दा यह है कि क्या भाजपा मौजूदा विधायकों पर दवाब बना रही है। करीब 6 माह पहले आरएसएस की एक रिपोर्ट की चर्चा हुई थी। बताया गया था कि करीब 70 विधायक खतरे में हैं। जनता उनसे नाराज है। विधायकों को चेतावनी दी गई थी कि वो अपना प्रदर्शन सुधारें और नियमित रूप से जनता के बीच जाएं। इसके बाद विधायकों की आवाजाही भी बढ़ी। तब से अब तक भाजपा का आंतरिक सर्वे, प्राइवेट ऐजेंसियों के 2 सर्वे और एक बार फिर आरएसएस का सर्वे सामने आ रहा है। 

इस बार कहा जा रहा है कि करीब 100 विधायकों के टिकट खतरे में हैं। इनमें से 70 के तो पक्के ही कटेंगे। इसके इतर एक और खबर बार बार सामने आती है कि भाजपा के लगभग हर दिग्गज नेता के बालक या कन्याएं अब चुनाव लड़ने योग्य हो गईं हैं। सोशल मीडिया चुगली करती है कि वो ना केवल अपने पिता के क्षेत्र में सक्रिय हैं बल्कि कई दूसरे क्षेत्रों के संपर्क में भी हैं। इसके अलावा जो परंपरागत दावेदार हैं उनकी संख्या भी कम नहीं है। फिर क्यों ना संदेह किया जाए कि बार बार सर्वे कराकर दिग्गज अपने विधायकों का मनोबल तोड़ रहे हैं और जमीन तैयार कर रहे हैं कि वो टिकट कटवाने के लिए तैयार रहें। 
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Popular News This Week