6 दिन से आमरण अनशन पर बैठीं महिला अतिथि विद्वानों की हालत नाजुक

20 June 2018

भोपाल। अतिथि विद्वान महासंघ के आह्वान पर प्रदेश भर के युवा बेरोजगार और अतिथि विद्वान विगत 15 तारीख से भोपाल के नीलम पार्क में अनशन पर बैठे हैं, दो महिला अतिथि विद्वान डॉ अनामिका सिंह और कु ज्योतिशिखा अग्रवाल ने 15 तारीख से अन्न जल त्याग रखा है। शासन की संवेदनहीनता इस हद तक बढ़ गई है कि आज 6 दिन बीत जाने के बाद भी शासन की तरफ से किसी भी नुमाइंदे ने इनकी सुध नही ली। आज अनशनकारी महिलाओं की हालत बेहद नाजुक हो गई, दोपहर बाद लगभग 2:30 बजे पुलिस द्वारा जबरन आज अनशनकारी महिलाओं उठाकर हॉस्पिटल ले जाया गया। तथा धरना स्थल पर उपस्थित अन्य अतिथि विद्वानों पर आंदोलन खत्म करने का दबाव बना रही है। पुलिस का कहना है कि यहां से हटो वर्ना बल प्रयोग किया जाएगा और पंडाल भी उखाड़ कर फेंक दिया जाएगा।

गौरतलब है कि मप्र सरकार पीएससी के माध्यम से सहायक प्राध्यापक पदों के लिए भर्ती करने जा रही है जिसमें व्यापक विसंगतियों के साथ पारीक्षा ली जा रही है।विज्ञापन होने के बाद 30 से अधिक संसोधन किये गए सारे नियमो को ऐसे तोड़ा मरोड़ा गया जिससे प्रदेश के बाहर के लोगों को अधिक से अधिक लाभ पहुंचाया जा सके। और वर्षो से शासकीय महाविद्यालयों में कार्यरत अतिथि विद्वानों के साथ वादाखिलाफी की और आज जबकि अधिकांस अतिथि विद्वान 45 से 50 वर्ष की आयु के हो चुके हैं। तब उन्हें बेरोजगार करने का षड्यंत्र रच रही है।

अनशनकारी महिला अतिथि विद्वानों की बात सुनने और उनकी जायज मांगो को पूरा करने की बजाय सरकार उनके ऊपर बलप्रयोग कर रही है, अतिथि विद्वान महासंघ इसकी घोर निंदा करता है ,जब तक सरकार हमारी मांगे नही मानती विरोध जारी रहेगा।
डॉ देवराज सिंह प्रदेशाध्यक्ष अतिथि विद्वान महासंघ

ऐसे बाहरी लोग जो अपने ही राज्य में आयुसीमा के आधार पर चपरासी से लेकर किसी भी पद के लिए आवेदन करने के लायक नही हैं, उन्हें मप्र सरकार सहायक प्राध्यापक बनाने पर आमादा है यह सीधे सीधे प्रदेश के युवाओं के सपनों की हत्या है।
डॉ जेपीएस चौहान अतिथि विद्वान महासंघ
देश और मध्यप्रदेश की बड़ी खबरें MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Popular News This Week