कमलनाथ के नाम पर भाजपा दिग्गजों में दिखी राहत | MP NEWS

01 May 2018

भोपाल। कांग्रेस ने मध्यप्रदेश में सबसे बड़ा बदलाव कर दिया है। कमलनाथ को प्रदेश अध्यक्ष बनाया है। वो रैली के माध्यम से अपनी ताकत भी दिखा रहे हैं परंतु भाजपा के दिग्गज उनके नाम से ही राहत में हैं। वो शिवराज के सामने कमलनाथ को कोई चुनौती नहीं मानते। उनका कहना है कि कमलनाथ की ताजपोशी से खुद कांग्रेस के नेता ही नाराज हैं जबकि भाजपा के नाराज कार्यकर्ता भी संगठन के नाम पर एकजुट हैं। नरोत्तम मिश्रा ने कटाक्ष किया कि उनके यहां तो एक चार का झगड़ा चल रहा है। 

मरी हुई है कांग्रेस, कमलनाथ नहीं कर पाएंगे कुछ
जीएडी राज्यमंत्री लाल सिंह आर्य ने कहा कि कांग्रेस मरी हुई है। कमलनाथ के लिए गरीब कोई मायने नहीं रखते। भाजपा विकास के आधार पर काम कर रही है और फिर सरकार बनाएगी।भाजपा चुनाव प्रबंध समिति की पहली बैठक में आज केन्द्रीय सामाजिक न्याय मंत्री थावरचंद गेहलोत और भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय नहीं आए। दोनों नेता हाल ही में गठित चुनाव प्रबंध समिति के सदस्य हैं।

कांग्रेस में एक चार का झगड़ा: नरोत्तम
चुनाव प्रबंध समिति के सह संयोजक और मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कमलनाथ कोई चुनौती नहीं हैं। कांग्रेस में परिवार की लड़ाई चल रही है और वहां एक चार का झगड़ा ही पार्टी को नुकसान पहुंचा रहा है। इधर गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह ने कहा कि कांग्रेस में एकजुटता का अभाव है। जब से कमलनाथ अध्यक्ष बने हैं, सभी कांग्रेस नेता एक सुर से अलग हैं।

न कमलनाथ न कांग्रेस से चुनौती: पटेल
सांसद प्रहलाद पटेल ने कहा कि कमलनाथ और कांग्रेस दोनों ही बीजेपी के लिए कोई चुनौती नहीं हैं। भाजपा का लक्ष्य अगले चुनाव में 200 पार का है और इसके लिए सभी एकजुट होकर काम करेंगे।

बीजेपी तवे पर कांग्रेस लाशों पर सेंकती है रोटी
पूर्व भाजपा प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान ने कहा कि भाजपा के लिए कांग्रेस और कमलनाथ दोनों ही चुनौती नहीं हैं। एक बार फिर शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में सरकार बनेगी। सांसद प्रहलाद पटेल द्वारा रोटी सेंकने को लेकर हुए सवाल पर उन्होंने कहा कि भाजपा के कार्यकर्ता तवे पर रोटी सेंकते हैं जबकि कांग्रेस के लोग लाशों पर रोटी सेंकने का काम करते हैं।

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Popular News This Week

 
-->