सलैया प्रोजेक्ट: बिल्डर से ज्यादा परेशान कर रहा है BDA, ग्राहक नाराज | BHOPAL NEWS

24 February 2018

भोपाल। भोपाल विकास प्राधिकरण (BHOPAL DEVELOPMENT AUTHORITY) ने लेटलफीती के बाद अफोर्डेबल हाउसिंग प्रोजेक्ट सलैया का भले ही खरीदारों को पजेशन दे दिया हो लेकिन, बीडीए अब तक यहां रहने लायक आवास उपलब्ध नहीं करा पाया है। बेहतर सुविधाएं तो दूर यहां मूलभूत सुविधाएं भी उपलब्ध नहीं है। शिकायतों पर सुनवाई भी नहीं हो रही। जिससे खरीदार खुद मकान मालिक होने के बावजूद किराये के मकान में रहने को मजबूर है। नाराज खरीदार अब रियल एस्टेट रेगुलेटरी अथॉरिटी (RERA) में भी शिकायत दर्ज करने की बात कह रहे हैं।

बीडीए लोगों को कम दरों पर आवास उपलब्ध कराता है। सलैया प्रोजेक्ट (AFFORDABLE HOUSING PROJECT) शुरू करने की भी यही मंशा थी। लेकिन, सलैया प्रोजेक्ट में FLAT खरीदने वाले लोगों को दोहरे आर्थिक बोझ की मार झेल रहे हैं। खरीदारों ने बताया कि मकान की किस्तों के रूप में कम से कम सात हजार रुपए प्रतिमाह और चार हजार रुपए किराया भी चुकाना पड़ रहा है।

सलैया प्रोजेक्ट में यह समस्याएं
सलैया प्रोजेक्ट के अधिकांश ब्लाकों में पानी सप्लाई नहीं की जा रही है। 
बिजली के लिए मीटर शुल्क भुगतान के बाद भी बिजली की व्यवस्था नहीं की गई। 
पजेशन देने के बाद भी नल (टोटियां) फ्लैट से गायब है। 
फ्लैट के लाइल्स भी निर्माण कार्यों के दौरान जो टूट गए थे उन्हें बदला ही नहीं गया। 
खिड़कियों के कांच टूटे हुए है या गायब है। 
बाथरूम में लगे उपकरणों को फिट नहीं किया गया है। 
एलआईजी ब्लॉक नंबर-सी में फ्लैट खरीदार एसके श्रेष्ठ ने बताया कि पजेशन मिलने के बाद भी पूरे फ्लैट में पानी की पाइप लाइन फूटी हुई है। वहीं, एलआईजी सी-11-1 फ्लैट खरीदार विश्वनाथ धोटे के फ्लैट में नल (टोटी एवं उपकरण) ही नहीं लगाए गए। स्ट्रीट लाइटों की व्यवस्था दुरुस्त नहीं है साथ ही पर्याप्त सुरक्षा गार्ड भी नहीं हैं। आश्चर्य की बात तो ये है कि बीडीए के इस बड़े प्रोजेक्ट में एप्रोच रोड का ही निर्माण नहीं किया गया। लोग छोटी सी कच्ची पगडंडी के सहारे ही प्रोजेक्ट स्थल पर पहुंच रहे हैं।

अब रेरा में करेंगे शिकायतें
शिकायतों पर सुनवाई नहीं होने से नाराज खरीदारों ने एक वाट्सएप ग्रुप बनाया है। सभी खरीदार इसी ग्रुप में अपनी समस्याओं को साझा करते हैं। खरीददार एके शर्मा ने बताया कि भुगतान के बाद तय सुविधाओं के अभाव को लेकर रियल एस्टेट रेगुलेटरी अथॉरिटी (रेरा) में शिकायत दर्ज कराई जाएगी। शिकायतों के जरिए यह मांग भी करेंगे कि पजेशन के बाद भी किराया चुका रहे खरीदारों को बीडीए से ब्याज सहित किराया रकम भी दिलवाई जाए।

खरीदारों का दर्द
खासी दिक्कतों के बाद प्रोजेक्ट का निर्माण पूरा हुआ, फिर पजेशन के लिए चक्कर कांटे और अब तक रहने लायक फ्लैट नहीं मिल सके हैं। शिकायतों के बाद भी कोई नहीं सुनता।
डीके कुमार, खरीदार

किस्तें भी चुका रहे हैं और किराया भी। पजेशन के बाद हमें पूरी तरह तैयार फ्लैट नहीं मिला। हम पर आर्थिक बोझ बढ़ रहा है। इसका जिम्मेदार बीडीए ही है।
नीलेश दुबे, खरीदार

रेरा में हम शिकायत करेंगे और जो हक हमें मिलना चाहिए वह भी बीडीए से वसूल करेंगे। तय समय में भी हमें आवास बीडीए ने उपलब्ध नहीं कराया।
विश्वनाथ धोटे, खरीदार

सलैया प्रोजेक्ट में किसी भी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं है। सभी मूलभूत सुविधाएं दी जा रही हैं। कुछ लोगों की समस्याएं है उनका तत्काल निराकरण किया जा रहा है।
नीरज वशिष्ठ, सीईओ, बीडीए।

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Popular News This Week

 
-->