Loading...

अब और महंगी हो जाएंगी SBI की सेवाएं

नई दिल्ली। भारतीय स्टेट बैंक ने सर्विस चार्ज में एक बार फिर बड़े बदलाव किये है। कैश विदड्रॉल से लेकर कई सेवाओं पर बैंक ने चार्ज बढ़ाया है। नोटबंदी के बाद भी बैंक ने सर्विस चार्ज की बड़ोत्‍तरी की थी। बैंक कटे-फटे नोट और डेबिट कार्ड इश्‍यू करने पर भी चार्ज लगा रही है।

1- बैंक एक बार फिर अपने ग्राहकों को झटका देने की तैयारी कर रही है। बैंक अब पुराने और कटे-फटे नोट बदलने से लेकर बेसिक सेविंग डिपॉजिट अकाउंट के जरिए कैश विद्ड्रॉल को महंगा कर रहा है। एसबीआई में यह नए नियम एक जून से लागू करने की तैयारी है। अभी तक आप कटे-फटे और गीले हर तरह के नोट बैंक में ऐसे ही बदल लेते थे पर अब जमाना बदल चुका है तो बैंक ने अपनी सेवाओं को देने की रकम भी बढ़ा दी है। 

2- बैंक अब कटे फटे और गले नोटों पर 2 रुपए से लेकर 5 रुपए चार्ज लेगा। ये चार्ज 20 से ज्यादा होने नोट होने और उनकी वैल्यू 5000 रुपए से ज्यादा होने पर लिया जाएगा। अगर कोई कस्टमर कटे-फटे या गीले 20 नोट तक जिनकी कुल वैल्यू 5000 रुपए से ज्यादा नहीं है उसे एक्सचेंज कराता है तो उसे कोई चार्ज नहीं देना होगा। इससे ज्यादा होने पर हर नोट के लिए 2 रुपए चार्ज देना होगा जिस पर सर्विस टैक्स अलग से लगेगा। फ्री कैश विद्ड्रॉल लिमिट 4 रहेगी। जिसमें एटीएम से किए गए ट्रांजैक्शन भी शामिल होंगे। 

3- अगर कोई कस्टमर 4 से ज्यादा बार ब्रांच और एटीएम से कैश विद्ड्रॉल करता है तो उसे एक्स्ट्रा चार्ज देना होगा। हर ट्रांजैक्शन 20 रुपए देने होंगे। जिस पर अलग से सर्विस टैक्स भी लिया जाएगा। इसी तरह अगर एक्स्ट्रा ट्रांजैक्शन एसबीआई के एटीएम से किया जाएगा तो उस पर 10 रुपए प्रति ट्रांजैक्शन चार्ज लगेगा। साथ ही सर्विस टैक्स अलग से लिया जाएगा। बेसिक सेविंग डिपॉजिट अकाउंट पर मिलने वाले डेबिट कार्ड पर भी चार्ज लेने की तैयारी कर रहा है। 

4- एक जून से बैंक केवल रुपे डेबिट फ्री में इश्यू करेगा। जबकि मास्टर और वीजा कार्ड इश्यू करने पर बैंक चार्ज लेगा। इसके अलावा बेसिक सेविंग डिपॉजिट अकाउंट पर मिलने वाले डेबिट कार्ड पर भी चार्ज लेने की तैयारी कर रहा है। एक जून से बैंक केवल रुपे डेबिट फ्री में इश्यू करेगा। जबकि मास्टर और वीजा कार्ड इश्यू करने पर बैंक चार्ज लेगा।